पेरू के राष्ट्रपति ने ऑडियो रिकॉडिर्ंग को फ्रॉड बताते हुए खारिज किया

लीमा| पेरू के राष्ट्रपति मार्टिन विजकार्रा ने उस ऑडियो रिकॉडिर्ंग की वैधता पर सवाल उठाते हुए खारिज कर दिया है, जिसके कारण उन पर सरकारी धन के दुरुपयोग का आरोप लगा है। साथ ही उनके खिलाफ महाभियोग की कार्यवाही शुरू हो गई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, विजकार्रा को दोषी पाए जाने पर पद से हटाया जा सकता है।

कांग्रेस के सत्र में शुक्रवार को राष्ट्रपति ने देश में बने स्वास्थ्य संकट का हवाला देते हुए विधायकों से उन पर लगाए गए महाभियोग पर बहस करने का आग्रह किया।

कोविड-19 महामारी की चपेट में आने वाले देशों में शामिल पेरू संक्रमण के मामले में 5वें और मौतों के मामले में 8वें नंबर पर है। यहां अब तक 7,50,098 मामले और 31,146 मौतें दर्ज हो चुकी हैं।

विजकार्रा ने कहा, "बिना किसी वैधता वाले कुछ ऑडियो के कारण पेरू में स्वास्थ्य सेवाओं में रुकावट नहीं आने दी जा सकती है। ना ही महामारी को रोकने और आर्थिक गतिविधियों को फिर से सक्रिय करने के मैनेजमेंट को निलंबित किया जा सकता है।"

Advertisements

महाभियोग की कार्यवाही एक गायक रिचर्ड सिसनेरोस के साथ विजकार्रा के संबंधों और करीब 50,000 डॉलर के उन अनुबंधों पर केन्द्रित है, जिसके लिए संस्कृति मंत्रालय द्वारा पत्र दिया गया था।

इन ऑडियो को राष्ट्रपति के पूर्व सचिव करीम रोका ने रिकॉर्ड किया था।

विजकार्रा ने कहा कि यह पेरू की न्याय व्यवस्था पर निर्भर है कि वह अवैध रूप से रिकॉडिर्ंग करने के पीछे के करीम रोका के मकसद को स्पष्ट करे।

विजकार्रा के वकील रॉबटरे परेरा ने उनका बचाव करते हुए आरोप लगाया कि महाभियोग की कार्यवाही निराधार थी।

पिछले हफ्ते पेरू के क्षेत्रीय गवर्नरों समेत यूनियन प्रमुखों, पूर्ण राष्ट्रपति और देश के कई नेताओं ने राष्ट्रपति को अपना समर्थन दिया।

Leave a Comment