अर्ली डिटेक्शन, अर्ली कैचिंग कॉन्सेप्ट पर काम करें सभी टीमें, ताकि समय रहते हो सके मरीजों की पहचान और इलाज : डीएम

Advertisements

वाराणसी। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने शनिवार को कैम्प कार्यालय में लैब टेक्नीशियन, कम्प्यूटर आपरेटर एवं पशुचिकित्सा विभाग के कर्मचारियों संग बैठक की। उन्होंने बताया कि सैम्पल कलेक्शन में लगे कर्मचारियों की मदद के लिए पशु चिकित्सा विभाग के कर्मचारियों को लगाया जायेगा। प्रत्येक पीएचसी पर एक डाटा इन्ट्री आपरेटर लगाकर डाटा फीडिंग का कार्य कराया जायेगा।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने लैब टेक्नीशियनो को निर्देशित किया कि प्रत्येक दिन सुबह 8 बजे से अपराह्न 2 बजे तक अपना अपना कार्य पूर्ण करें। ताकि समय पर रिपोर्टिंग इत्यादि की जा सके। कोविड पाजिटिव मरीजों के कांटेक्ट ट्रेसिंग वाले व्यक्तियों का सैम्पल जॉच प्राथमिकता पर किया जायेगा।

आंगनबाडी और आशा कार्यकत्रियों द्वारा जो सर्वे किया जा रहा है, उनका भी जांच कराया जायेगा। जिलाधिकारी ने कहा कि अर्ली डिटेक्शन, अर्ली कैचिंग कांसेप्ट पर सभी टीमों द्वारा कार्य किया जायेगा, ताकि मरीजों की पहचान समय रहते कर ली जाय और उनका बेहतर इलाज हो सके।

एलटी द्वारा शिकायत की गयी कि कांटेक्ट ट्रेसिंग वाले व्यक्तियों द्वारा सैम्पल देने में समस्या किये जाने की जानकारी पर जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि जो लोग कांटेक्ट ट्रेसिंग में आये है उन्हें अनिवार्य रूप से सैम्पल जांच कराना पड़ेगा, अन्यथा उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी। बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी, उप जिलाधिकारी राजातालाब, डिप्टी कलेक्टर माल, बेसिक शिक्षाधिकारी, सहायक डीआईओएस सहित संबंधित अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहें।