विज्ञापन

वाराणसी। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को डीएलडब्लू में निर्मित इलेक्ट्रिक रेल इंजन WAP7 – लोको संख्या 37349 को हरी झंडी दिखाकर राष्ट्र को समर्पित किया। लोकार्पण के दौरान महाप्रबंधक यशपाल सिंह एवं प्रमुख अधिकारियों द्वारा उन्हें उत्पा्दन प्रक्रिया एवं अन्यी तकनीकी विषयों पर जानकारी दी गयी।

लोको निरीक्षण के उपरान्त रेल मंत्री पीयूष गोयल ने विभागाध्याक्षों के साथ प्रोडक्शन गतिविधियों, निर्माण सुविधाओं, डीएलडब्लू में चल रही परियोजनाओं एवं भविष्या की योजनाओं के साथ सामग्री प्रबंधन, कर्मशाला परिसर में सुविधाओं का विस्तारि‍त एवं रेल इंजनों की गुणवत्ता पर विशेष रूप से चर्चा की।

इस दौरान रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि तेरह लाख लोगो का रेल परिवार एक हैं। जिसमे रेल कर्मचारी, अधिकारी, बोर्ड सदस्य, मंत्री सभी शामिल है। मैंने लोकसभा में भी बोला था कि सभी के संयुक्त प्रयास से भारतीय रेल विश्व की नंबर एक रेल बनेगी। भारतीय रेल ने बहुत सारे कीर्तिमान इस वर्ष प्राप्त किए।

उन्होने कहा कि डीरेका में इस वर्ष 315 लक्ष्य के सापेक्ष 295 इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव का उत्पादन हो चुका है। परिसर में विद्युत लोकोमोटिव WAP7 37349 के लोकार्पण के उपरांत संबोधित करते हुये वित्तीय वर्ष 2020-21 में डीरेका के लिए 501 विद्युत रेल इंजन बनाने का लक्ष्य घोषित किया।

रेल मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के क्षेत्र को क्या नंबर दो बनाना चाहते हैं या नंबर एक, जवाब में डीरेका के कर्मचारियों ने कहा कि नंबर एक बनाना है। उन्होने कहा की प्रधानमंत्री के सोच के साथ भारतीय रेल के सभी कर्मचारी जो दिन-रात लगन के साथ अपने कार्यों का निष्पादन कर रहे हैं, जिसके कारण एक भी दुर्घटना इस वर्ष नहीं हुई।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि रेल यात्रा को और सुगम बनाकर रेल यात्रियों को बेहतर सुरक्षा देंगे, रेल की शान और बढ़ाएंगे हम सबका विश्वास है, कि तेरह लाख कर्मचारियों के संयुक्त परिश्रम, मेहनत, बेहतर सेवाएं, देश के नागरिकों के प्रति हमारी संवेदना इन सब को एक साथ जोड़कर माननीय प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारतीय रेल को विश्व का नंबर एक रेल बनाएंगे।

विज्ञापन