5-day National Capacity Building Program organized in Vasant Mahila College
विज्ञापन

वाराणसी। वसंत महिला महाविद्यालय, राजघाट वाराणसी के प्लेसमेंट सेल द्वारा, फ़ैकल्टी विकास कार्यक्रम के तहत 5 दिवसीय राष्ट्रीय कैपेसिटी बिल्डिंग कार्यक्रम : मिश्रित व ऑनलाइन अधिगम हेतु आइ सी टी की भूमिका नामक विषय पर दिनांक 26 जून से 30 जून तक वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है।

इस आयोजन के प्रथम सत्र के मुख्य वक्ता डा कृष्ण शंकर कुसुमा, असिस्टेंट प्रोफ़ेसर, अनवर जमाल किदवई मास कम्युनिकेशन, जामिया मिलिया विश्वविद्यालय ने ‘ मूक स्वयम कोर्से: चार कवाडरेंट्स’ नामक विषय पर विशद रूप से चर्चा की। उन्होंने कहा की मूक एक ऐसा डेटाबेस है ज़हां मात्रा व गुणवत्ता के साथ एक विशाल ज्ञान का खजाना है और जिसको आज के समय मे जानना किसी वरदान से कम नहीं है।

डा कुसुमा ने अकेडेमिक लेक्चर, विडियो लेक्चर, वेब लिंक्स, और असाइनमेंट्स के बारे में अपने विचार प्रतिभागियों से साझा किए। इस सत्र का सञ्चालन डॉ मनीषा मिश्र,असिस्टेन्ट प्रोफेसर ,राजनीति विज्ञान ने किया और धन्यवाद ज्ञापन मिस मरूफा गूलनाज़, शोध छात्रा, बी एच यू ने किया।

कार्यशाला के द्वितीय सत्र के मुख्य वक्ता प्रोफ़ेसर जेसी अब्राहम, आइ ए एस इ, शिक्षा संकाय ने ‘ओपन एजूकेशनल रिसोर्सेज़ और क्रियेटिव कामन्स’ के बारे में गहन रूप से चर्चा की। उन्होंने अमेरिका के मसाचूसेट्ट्स इंस्टिटूट ऑफ़ टेक़नोलाजी, स्लोवाकिया, पोलैंड, भारत व टर्की जैसे देशो व उनके आइसीटी कार्यों के बारे में बात की।

इसके अलावा इन्होंने इंटेलेकचुअल प्रापर्टी राइटस, कापी राइट, प्लगरिजम, साइटेशंस व विभिन्न तारीकों के लाइसेंसों के अलावा क्रिएटिव कामन्स के विभिन्न रूपों के बारे में भी बात की। इस सत्र का सञ्चालन डॉ राजेश चौधरी असिस्टेंट प्रोफेसर दर्शन विभाग ने किया और धन्यवाद ज्ञापन डा. दिव्या चौधरी, असिस्टेंट प्रोफ़ेसर, दिल्ली विश्वविद्यालय ने किया।

इस कार्यशाला में 65 से ज़्यादा प्रतिभागियों ने भाग लिया। इस वर्कशाप में डा. सौरभ सिंह, व डा. वेदमणि मिश्रा ने भी अपनी सक्रिय सहभागिता निभायी।

विज्ञापन