‘पि‍ता के हत्‍यारे बेखौफ में घूम रहे, पुलि‍स हमें धक्‍के देकर थाने से भगा रही, पढ़ने के लि‍ये भी पैसे नहीं हैं’

विज्ञापन

वाराणसी। चौबेपुर थाना क्षेत्र में बीते दिनों ज़मीन के विवाद में हुई बुज़ुर्ग नंदलाल यादव की हत्या के बाद अभी तक वाराणसी पुलिस हत्यारों को पकड़ नहीं पायी है। इधर परिजनों का आरोप है कि हत्यारे अभी भी धमकी दे रहे हैं। अपनी सुरक्षा की गुहार और बच्‍चों के लालन-पालन के मसले को लेकर मृतक की पत्नी अपने 6 नाबालिग लड़कियों और एक लड़के के साथ एसएसपी प्रभाकर चौधरी के कार्यालय पहुंची थी पर एसएसपी की अनुपस्थिति से उन्हें निराशा हाथ लगी।

एसएसपी कार्यालय पहुंची मृतक की पत्नी तीजा यादव बस यही कह रही थी की पुलिस हमारी मदद नहीं कर रहा है अब हम कैसे अपने पति के हत्यारों को जेल भिजवाएं। अपनी 6 नाबालिग लड़कियों के साथ एसएसपी कार्यालय पहुंची तीजा देवी बस इन्साफ की रट लगाए थीं। उनकी सबसे बड़ी बेटी गुड़िया यादव ने बताया कि थाना चौबेपुर के गरथौली की रहने वाली है।

पुलिस नहीं कर रही है मदद
गुड़िया ने बताया कि 19 नवंबर 2019 को पिता जी और चाचा जी के खेत देखते समय कुछ लोगों ने फरसे से मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया, जिसके बाद ट्रामा सेंटर में इलाज शुरू हुआ पर गंभीर हालत में पिताजी नंदलाल यादव ने 26 नवंबर को दम तोड़ दिया। गुड़िया ने आरोप लगाया कि हम लोग थाने गए तो वहां से धक्का मारकर भगा दिया गया। आज तक हत्यारे गिरफ्तार नहीं हुई है। इसके अलावा हमें आते जाते धमकी दी जाती है कि मुकदमा वापस ले लो वरना अच्छा नहीं होगा।

अपराधियों की बाइक भी नहीं लायी पुलिस
गुड़िया ने बताया की हमले के दिन हत्यारे बाईक से आये थे। मौके पर वो बाईक छोड़कर भाग गए। हमने पुलिस को बताया पर आज तक बाईक भी पुलिस वहां से उठाकर नहीं लायी है। बाईक ग्रामीणों ने हमारे घर में रख दी थी जो आज तक वहीँ रखी है।

बंद हो गयी है शिक्षा
गुड़िया ने रोते हुए बताया कि पिता जी बाहर रहकर हम सबका लालन-पालन करते थे। उनके जाने के बाद हमारी शिक्षा पर भी ब्रेक लग गया है। सभी का स्कूल छूट गया है हम आगे नहीं पढ़ पा रहे हैं पर पुलिस हत्यारों को नहीं पकड़ पा रही है।

बता दें कि 19 नवंबर की सुबह ज़मीनी विवाद में चौबेपुर थानाक्षेत्र के गरथौली ग्राम में जयप्रकाश यादव, पतालू यादव, मिथलेश यादव, राजन यादव, घनश्याम यादव व दिनेश यादव ने नंदलाल यादव और उनके भाई पर फरसे से कई वार कर दिया था। इस घटना में घायल नंदलाल यादव की इलाज के दौरान 26 नवंबर को ट्रामा सेंटर में मृत्यु हो गयी जिसके बाद से आरोपी उनके परिजनों को धमकी दे रहे हैं। परिजनों का आरोप है कि पुलिस भी विपक्षियों से मिली हुई है।

देखिये वीडियो 

Loading...