हाथ में ति‍रंगा लि‍ये तहसील पहुंची 6 साल की मासूम, की ऐसी गुजारि‍श की हर कोई सोच में पड़ गया

रि‍पोर्ट मुश्ताक आलम, राजातालाब वाराणसी

वाराणसी। राजातालाब तहसील में उस समय सारे अधिकारियों की नजर एक नन्ही सी बच्ची पर जा टि‍की जब उन्‍होंने देखा कि‍ बच्‍ची ने अपने हाथों में तिरंगा लि‍या हुआ था, यही नहीं अपने पूरे शरीर पर तिरंगे का कलर बनवाकर तहसील परिसर में आ पहुंची थी। बच्‍ची के हाथ में एक प्रार्थना पत्र भी था, जि‍से राजातालाब एसडीएम अमृता सिंह ने लेते हुए बच्‍ची का नाम पूछा।

विज्ञापन

बच्‍ची ने बताया कि‍ मेरा नाम वैष्‍णवी है और मैं एक संदेश लेकर आई हूं। मैं समाज में एक संदेश देना चाह रही हूं कि हम बेटी हैं और 1 दिन हम मां भी बनेंगी, फिर भी हमें पेट में ही मार दिया जाता है, जबकि नारा दिया गया है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ। मैं आपकी अपनी बेटी हूं, यह पूछ रही हूं कि हम लोगों को पैदा होने से पहले ही क्यों मार दिया जाता है। आखिर मैं भी तो जीना चाहती हूं।

बच्‍ची ने हाथ जोड़कर सभी लोगों से विनती किया कि आप लोग जातपात या धर्म के नाम पर मत लड़ाई करिए, आपको मालूम नहीं कि जब देश स्वतंत्र हुआ तो सभी जाति और धर्मों के लोगों ने देश को आजाद कराया और आपसी भाईचारे से सारे लोग आंदोलन किए। दृष्टि ने यह भी कहा कि हमें पर्यावरण को शुद्ध और स्वच्छ रखना चाहिए कूड़ा हमेशा कूड़ेदान में ही डालना चाहिए। इन्हीं सब बातों को मैं अपने माध्यम से लोगों को बताना चाहती हूं कि आप लोग मेरी कही हुई बातों को ध्यान से सुनिए और उसका अनुसरण करिए।

दृष्टि के साथ उसके पिता अश्वनी मिश्रा भी थे। दृष्टि बहेड़वा मिर्जामुराद वाराणसी की रहने वाली छोटी सी बच्ची है।

Loading...