विज्ञापन

वाराणसी। चैत्र नवरात्रि का आरंभ 25 मार्च से हो रहा है। इसबार सबसे शुभ बात यह रहेगी कि मां दुर्गा के पूजन अर्चन का पावन दिन पूरे नौ दिनों तक रहेगा। चैत्र मास के शुक्लपक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर रामनवमी तक मां दुर्गा का पावन पर्व नवरात्री मनाया जाएगा।

विज्ञापन

कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते पूरे प्रदेश में लॉकडाउन है। शहर के सभी मंदिरों को भी बंद कर दिया गया है, जिसे देखते हुए ज्योति‍षाचार्यों ने श्रद्धालुओँ से घर में ही रहकर मां दुर्गा की पूजा अर्चना करने की सलाह दी है।

विज्ञापन

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नवरात्रि में मां दुर्गा के शक्ति के नौ रुपों की पूजा अर्चना करने से सभी तरह की बाधाएं समस्याएं दूर हो जाती है। इन नौ दिनों में उपवास का विशेष महत्व है। चैत्र नवरात्रि के आरंभ से ही हिन्दू नववर्ष की शरुआत भी होती है।

विज्ञापन

नवरात्रि का आरंभ होते ही घट स्थापना की जाती है। घटस्थापना करने से घर में सकारात्मक शक्तियों का वास होता है। इस साल 25 मार्च से हिन्दू नववर्ष विक्रम संवत 2077 का आगाज़ हो जाएगा।

विज्ञापन

चैत्र मास की शुक्ल पक्ष का प्रतिपदा तिथि का प्रारंभ 24 मार्च दिन मंगलावर को दोपहर 2 बजकर 57 मिनट पर हो रहा है, जो 25 मार्च दिन बुधवार को शाम 5 बजकर 26 मिनट तक रहेगी। बुधवार सुबह कलश स्थापना के लिए 58 मिनट का शुभ समय है। श्रद्धालु सुबह 6 बजकर 19 मिनट से सुबह 7 बजकर 17 मिनट के मध्य कलश स्थापना कर सकते हैं।

विज्ञापन