विज्ञापन

वाराणसी। पंडित कमलापति त्रिपाठी प्रतिमा के सामने कैंट चौराहे पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपने पूरे शरीर को जंजीर में बांधकर और अपने हाथ में प्रतीकात्मक हथकड़ी लगाकर वाराणसी पुलिस प्रशासन का जमकर विरोध किया।

विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे कांग्रेस सेवा दल के पूर्व जिला अध्यक्ष हरीश मिश्रा ने कहा कि सरकार और जनता के बीच अपनेपन और विश्वास का एक अटूट रिश्ता होता है। जन मुद्दे पर विपक्ष जनता की वाजिब अधिकारों के लिए सरकारों से सड़कों पर जन आंदोलन के माध्यम से अपनी बात करता है कुल मिलाकर जनहित का मंशा सर्वोपरि रहता है, लेकिन विगत वर्षों में जनता और सरकार के बीच पुलिस खलनायक का रोल निभा रही है।

उन्‍होंने कहा कि‍ जब जब जनता अपने दर्द को आंदोलन के जरिए अपने सरकार से कहना चाहती है। तब तब पुलिस अपनी दमनकारी नीतियों के बल से आंदोलन को लगातार नष्ट कर देती है। कई बार तो जनता और पुलिस के बीच हिंसात्मक झड़प भी होता है। जिसमें आंदोलनकारियों को फर्जी मुकदमे में जेल भी जाना पड़ता है, जो कि लोकतंत्र के लिए बेहद खतरनाक और भयावह साबित होता है।

हरीश मि‍श्रा ने कहा कि‍ सरकार को जनता चुनती है ना कि पुलिस, इसलिए पुलिस को जनता की आवाज दबाने का कोई हक नहीं है। हम पुलिस के इस रवैया का पुरजोर विरोध करते हैं और करते रहेंगे।

विरोध प्रदर्शन में हरीश मिश्रा, कुंवर यादव, प्रिंस राय खगोलन, आशीष केसरी, रोशन कुमार रंजीत सेठ शामिल रहे।

देखें वीडियो 

देखें तस्‍वीरें

विज्ञापन