मकर संक्रांति के शुभ दिन से शुरू हुआ श्री काशी विश्‍वनाथ धाम का निर्माण, 18 महीने में बनकर होगा तैयार

विज्ञापन

वाराणसी। मकर संक्रांति से हिन्दू मान्यताओं के अनुसार मंगल कार्य शुरू हो जाते हैं। इसी क्रम में बुधवार को प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट विश्वनाथ कॉरिडोर का कार्य भी शुरू हो गया। विश्वनाथ कॉरिडोर के निर्माण करने के लिए कार्यदायी संस्था पीएसपी के प्रोजेक्ट मैनेजर शशिकांत प्रजापति और मंदिर के कार्यपालक अधिकारी विशाल सिंह ने विधि-विधान से पूजा कर कार्य प्रारम्भ कर दिया।

काशी विश्वनाथ मंदिर के विस्तारीकरण और सौंदर्यीकरण के सपने को साकार करने के लिए विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना का खाका खींचा गया था। कार्यदायी कंपनी का दवा है कि देश भर के विशेषज्ञों और उन्नत मशीनों से प्रोजेक्ट का काम 18 महीनों में पूरा कर लिया जाएगा।

श्रीकाशी विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना पर 339 करोड़ रूपये खर्च होंगे। इस परियोजना के निर्माण का शुभरमाब आज कार्यदायी अधिकारियों पदाधिकारियों और मंदिर के कार्यपालक अधिकारी विशाल सिंह ने संयुक्त रूप से पूजा अर्चना कर शुरू करवाया। प्रोजेक्ट मैनेजर शशिकांत प्रजापति ने बताया कि काम पूरा होने के बाद मंदिर परिसर में भक्तों को बेहतर सुविधा मिलेगी। यात्री निवासी, म्यूजियम, भोजनालय, पुस्तकालय, गैलरी आदि का निर्माण होगा।

प्रोजेक्ट मैनेजर ने बताया कि परिसर में जितने भी मंदिर मिले हैं उनके फ्लोर लेबल को छेड़छाड़ किये बिना व पौराणिकता का ध्यान में रख कर काम किया जायेगा।

प्रोजेक्ट मैनेजर ने बताया कि काम के दौरान लोगों को कुछ परेशानी उठानी पड़ सकती है। एक बार प्रोजेक्ट पूरा हो जायेगा तो सभी को बेहत सुविधा मिलेगी। काशी विश्वनाथ मंदिर के पुजारी केदारनाथ उपाध्याय ने बताया कि गणेश पूजन के बाद शिलान्यास पूजन किया गया है। विधि-विधान से पूजन करने के बाद काम शुरू किया गया है।

देखें वीडियो 

Loading...