फ़िरोज़ खान की नियुक्ति के खि‍लाफ राष्ट्रपति को लेटर लिखने वाले प्रोफ़ेसर का नि‍धन, पूरे मामले से थे व्‍यथि‍त

विज्ञापन

वाराणसी। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के पद पर मुस्लिम डॉ फ़िरोज़ खान की नियुक्ति के बाद विश्वविद्यालय की नियुक्ति प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए राष्ट्रपति को पत्र लिखने वाले 20 विश्वविद्यालय के संकायाध्यक्षों एवं पूर्व संकायध्यक्षों में से एक कला विभाग के संस्कृत डिपार्टमेंट के पूर्व संकायध्यक्ष प्रोफ़ेसर बिश्वनाथ भट्टाचार्या का बुधवार को 94 साल की उम्र में देहांत हो गया।

यह खबर मिलते ही एसवीडीवी और संस्कृत डिपार्टमेंट में शोक की लहर फ़ैल गयी। प्रोफ़ेसर बि‍श्वनाथ भट्टाचार्या काफी समय तक संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान डिपार्टमेंट से भी जुड़े रहे।

94 साल की अवस्था में भी प्रोफ़ेसर बिश्वनाथ ने महामना के मूल्यों को नहीं छोड़ा और एसवीडीवी में हुए असिसटेंट प्रोफ़ेसर फ़िरोज़ खान की नियुक्ति को महामना और विश्वविद्यालय के नियमों के विरुद्ध और सनातन परम्परा पर आघात बताते हुए 23 नवम्बर को राष्ट्रपति को इस नियुक्ति के विरुद्ध लिखे गए पत्र में मुख्य भूमिका निभाई थी।

करीबि‍यों का कहना है कि‍ एसवीडीवी में नि‍युक्‍ति प्रकरण के बाद से ही प्रोफेसर बि‍श्‍वनाथ भट्टाचार्या काफी व्‍यथि‍त रह रहे थे। सुबह शाम वो मामले में हो रहे ताजा अपडेट्स लेते रहते थे।

Loading...