विज्ञापन

वाराणसी। जिले के हरहुआ ब्लाक क्षेत्र में घर वापस लौट रहे लोगों को होम क्वारंटाइन किया जा रहा है। ऐसे लोगों के घरों के बाहर शासन द्वारा जारी किए गए ‘होम क्वारंटाइन फ्लायर’ यानि पोस्टर चस्पा कर उसके बारे में जानकारी दी जा रही है। परिवार के लोगों के लिए सुबह-शाम बाजार आने-जाने के लिए भी समय निश्चित किया जा रहा है। साथ ही यह भी दर्शाया जा रहा है कि उन्हें किस दिन क्वरांटाइन किया गया है और किस दिन क्वारंटाइन की अवधि समाप्त होगी।

हरहुआ सीएचसी के स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी (एचईओ) हरिवंश यादव ने बताया कि हरहुआ ब्लाक में 1 मई से अभी तक कुल 105 लोग अन्य प्रदेशों व जनपदों से आए हैं। इन सभी की थर्मल स्क्रीनिंग कराई गई हालांकि कोई भी संक्रमित नहीं पाया गया। सभी को 21 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन किया गया है। उन्होने बताया कि शासन के निर्देशानुसार स्क्रीनिंग में किसी भी प्रकार के लक्षण पाये जाने पर इन्हें फैसल्टी क्वारंटाइन यानि सरकारी क्वारंटाइन केंद्र भेजा जाना है और जांच करवाने के पश्चात वह पॉज़िटिव पाया जाता है तो उसे अस्पताल में भर्ती कर इलाज किया जाएगा।

हरिवंश यादव ने बताया कि जो लक्षण वाले व्यक्ति संक्रमित नहीं पाये जाते हैं उन्हें 7 दिनों तक फैसल्टी क्वारंटाइन में रखकर पुनः परीक्षण करवाया जाएगा। यदि सात दिनों के बाद भी वह संक्रमित नहीं पाया जाता है तो उसे अगले 14 दिनों के होम क्वारंटाइन में भेज दिया जाएगा। वहीं बिना लक्षण वाले व्यक्तियों को 21 दिन के लिए होम क्वारंटाइन रखा जा रहा है। उन्होने बताया कि आशा कार्यकर्ता भ्रमण के दौरान जांच किए जाने की सूचना मेडिकल आफिसर को देती हैं।

हरहुआ सीएचसी के मेडिकल ऑफिसर इन्चार्ज (एमओआईसी) डॉ राकेश कुमार सिंह ने बताया कि क्षेत्र में बाहर से आए लोगों के घर-घर जाकर थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है। आशा कार्यकर्ता घर-घर भ्रमण कर उनकी निगरानी और साथ ही कोरोना से रोकथाम एवं बचाव के लिए जागरूक भी कर रही हैं। ब्लॉक सीएचसी पर डॉ विगनेश, डॉ राहुल आनंद सिंह और डॉ राजकुमार थर्मल स्क्रीनिंग का कार्य कर रहे हैं।

क्यों किया जा रहा है होम कोरेंटाइन:
इस रणनीति का इस्तेमाल कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए किया जाता है। यदि बाहर से आए किसी व्यक्ति को संक्रमण है तो कोरेंटाइन की मदद से वह व्यक्ति दूसरे को संक्रमण नहीं फैला पाए। इसलिए कोरेंटाइन से न तो डरें और न ही घबराएं।

सम्मान के योग्य:
फ्लायर में बताया गया है कि इस परिवार के सदस्य अपने सामाजिक उत्तरदायित्व को समझ कर अपने कर्तव्य का पालन कर रहे हैं। इसलिए ये हमारे सम्मान और सहयोग के योग्य हैं।

निर्देश:
फ्लायर में क्वारंटाइन अवधि के दौरान कोरेंटाइन किए गए परिवार के सभी सदस्यों को घर पर ही रहने का निर्देश दिया गया है और बिल्कुल बाहर नहीं निकलने को कहा गया है।
• जो भी व्यक्ति बाहर जाएगा वह मुंह ढकने के लिए पुनः इस्तेमाल होने वाला मास्क या कपड़े का इस्तेमाल करेगा। लोगों से बात करते वक्त दो गज की दूरी बनाए रखेगा। बाहर जाने से पहले और घर लौटने पर वह अपने हाथों को साबुन से अच्छे से धोएगा।

चेतावनी : यदि परिवार का कोई सदस्य क्वारंटाइन के नियमों का पालन नहीं करता है तो उसके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

इनकी भी जिम्मेदारी : यदि परिवार के सदस्य होम क्वारंटाइन के दौरान घर से बाहर जाते हैं या क्वारंटाइन के अन्य नियमों का पालन नहीं करते हैं तो इसकी सूचना आप ग्राम प्रधान को दें ताकि परिवार को फैसिलिटी क्वारंटाइन किया जा सके।

विज्ञापन