विज्ञापन

वाराणसी। कोरोना वायरस से बचाव व इसके संक्रमण को फैलने से रोकने के प्रयासों के मद्देनज़र बीएचयू के रेक्टर प्रो. वीके. शुक्ला ने शुक्रवार  केन्द्रीय कार्यालय में उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में कुलसचिव डॉ. नीरज त्रिपाठी समेत विश्वविद्यालय के विभिन्न संकायाध्यक्ष, संस्थानों के निदेशक व शीर्ष अधिकारी उपस्थित रहे।

विज्ञापन

इस दौरान  प्रो वीके  शुक्ला ने कहा कि चिकित्सा विज्ञान संस्थान के निदेशक व सर सुन्दरलाल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक, ओपीडी में अनावश्यक भीड़ कम करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार, के दिशानिर्देशों के तहत ज़रूरी क़दम उठाएं। इस संबंध में एक महत्वपूर्ण निर्णय के तहत सर सुन्दरलाल अस्पताल में 23 मार्च से 31 मार्च  तक कोई भी इलेक्टिव सर्जिकल प्रोसीजर नहीं किया जाएगा।

विज्ञापन

सावधानी बरते अधिकारी और कर्मचारी  

विज्ञापन

प्रो. वीके शुक्ला ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए केन्द्र व राज्य सरकारों द्वारा जारी दिशानिर्देशों के मद्देनज़र बीएचयू के अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देश दिया कि वे इस संबंध में पूरी सावधानी व सतर्कता बरतें। उन्होंने कहा कि सभी विभागों में सोशल डिसटेन्सिंग का कड़ाई के साथ पालन किया जाए और ये सुनिश्चित किया जाए कि कहीं भी किसी भी तरह की भीड़ न लगे और अनावश्यक रूप से लोग एकत्रित न हों।

विज्ञापन

उन्होंने आवश्यक सेवाएं उपलब्ध करा रहे विभागों को निर्देश दिया कि वे सुनिश्चित करें कि एक ही वक्त में ज़्यादा कर्मचारी इकट्ठा न हों और उनके बीच में पर्याप्त दूरी बनी रहे। इसके लिए उनके काम पर आने के समय में आवश्यक बदलाव भी किया जाए।

 टास्क फ़ोर्स का होगा घटन 
विश्वविद्यालय में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सुझावों का पालन पर निगरानी के लिए एक टास्क फोर्स का गठन किया जाएगा। इसके साथ साथ विश्वविद्यालय में विभिन्न निर्माण गतिविधियों में लगे मज़दूरों व कर्मचारियों के बीच फ्लू जैसे लक्षणों आदि का पता लगाने के लिए भी एक टीम गठित की जाएगी जो विभिन्न स्थानों का दौरा करेगी और ज़रूरी सहयोग उपलब्ध कराएगी। प्रो. शुक्ला ने कहा कि कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग, भारत सरकार द्वारा दिशानिर्देशों के पालन में कोई भी कोताही न बरती जाए।

मरीजों और परिजनों से अपील 
कोरोना वायरस के संदिग्धों की जांच, कोविड19 के संक्रमण व फैलाव को रोकने के मद्देनज़र काशी हिन्दू विश्वविद्यालय प्रशासन ने सर सुन्दरलाल अस्पताल में आने वाले मरीज़ों और उनके परिजनों से अपील की है कि बहुत ज़रूरी होने पर ही अस्पताल आएं और ऐसी कोई भी जांच, चिकित्सकीय प्रक्रिया, ऑपरेशन, परामर्श आदि को कुछ दिन बाद कराएं जिसके लिए इंतज़ार करना संभव हो।

मांगा सहयोग 

बीएचयू  प्रशासन की लोगों से अपील है कि बीएचयू अस्पताल में अनचाही भीड़ कम करने में सहयोग करें। इससे न सिर्फ संक्रमण के ख़तरे को कम किया जा सकेगा बल्कि प्रशासन व स्टाफ को अपना काम करने में भी आसानी होगी, साथ ही साथ कोविड-19 मामलों की जांच के काम में भी मदद मिलेगी। विश्वविद्यालय को पूरा विश्वास है कि आमजन इस में अपना पूरा सहयोग देंगे।

विज्ञापन