इन तीन शहरों के लिए गोएयर ने शुरू की नॉन-स्टॉप विमान सेवा, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

विज्ञापन

वाराणसी। एयर लाइन कंपनी गोएयर ने मंगलवार को वाराणसी से तीन शहरों के लिए चार नॉन-स्टॉप फ्‍लाइट्स की घोषणा की। गोएयर ने कहा कि यह दिल्ली के लिए डबल डेली फ्‍लाइट्स, अहमदाबाद के लिए एक दैनिक उड़ान (रविवार को छोड़कर) और बेंगलुरु के लिए एक दैनिक उड़ान संचालित करेगा। इन तीन शहरों से सीधी कनेक्टिविटी से व्यापार को बढ़ावा मिलेगा और यह वाराणसी शहर में आध्यात्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने में भी मदद करेगा।

आने वाले 20 दिसंबर को फ्लाइट G8-182 दिल्ली से 20:30 बजे रवाना होगी और 22:00 बजे वाराणसी पहुंचेगी। वही एयरक्राफ्‍ट रिटर्न फ्‍लाइट भरेगा: G8-183 वाराणसी से 22:30 बजे रवाना होगा और 00:10 बजे दिल्ली पहुंचेगा। फ्लाइट G8-404 दिल्ली से 10:30 बजे रवाना होगी और 11:40 बजे वाराणसी पहुंचेगी। फ्लाइट G8 403, 1 फरवरी 2020 से प्रभावी होगी जो 8:00 बजे वाराणसी से प्रस्थान करेगी और 09:25 बजे दिल्ली पहुंचेगी।

अहमदाबाद जाने के इच्छुक यात्री 13:00 बजे वाराणसी से गोएयर की फ्लाइट G8-768 पर सवार होकर 15:00 बजे अहमदाबाद आ सकते हैं। वापसी की उड़ान G8-767, अहमदाबाद से 10:20 बजे रवाना होगी और 12:30 बजे वाराणसी पहुंचेगी। अहमदाबाद और वाराणसी वाणिज्य और आध्यात्मिकता के संदर्भ में एक मजबूत बंधन साझा करते हैं और इस मार्ग में बड़ी संख्या में व्यापार और घूमने-फिरने वाले यात्री दिखाई देते हैं।

गोएयर अपनी उड़ान G8-404 से बेंगलुरु के साथ वाराणसी को दक्षिण भारत से जोड़ेगा। यह फ्लाइट वाराणसी से 12:20 बजे (मंगलवार को 13:40 बजे) रवाना होगी और 14:40 बजे (मंगलवार को 16:05 बजे) बेंगलुरु पहुंचेगी। फ्लाइट G8-403, 1 फरवरी 2020 से प्रभावी, 04:50 बजे बेंगलुरु से रवाना होगी और 07:20 बजे वाराणसी पहुंचेगी।

गोएयर के प्रबंध निदेशकजेह वाडिया ने इस अवसर पर कहा कि वाराणसी हमारा 26वां गंतव्‍य और उत्तरी भारत में एक सबसे प्रतिष्ठित स्‍थान होगा। हम अपने निरंतर बढ़ते-मजबूत नेटवर्क में वाराणसी का स्वागत करते हैं। दिल्ली, बेंगलुरु और अहमदाबाद के लिए सीधी कनेक्टिविटी सिल्‍क व्यापार को प्रोत्साहित करने में मदद करेगी, जिसके लिए वाराणसी प्रसिद्ध है और आध्यात्मिक यात्रियों और तीर्थयात्रियों को इस समृद्ध विरासत और इतिहास वाले शहर में अधिक कनेक्टिविटी देगा। अपनी खुद की 283 साल की विरासत के आधार पर, हम वाराणसी की विरासत के मूल्य को भी अच्छी तरह से समझते हैं।

Loading...