विज्ञापन

वाराणसी। हर साल की तरह 9 मार्च को शेरे खुदा दमादे पैगम्बर मौला हजरत अली का जश्ने विलादत पूरे जोश के साथ मनाया जाएगा। अली समिति द्वारा निकलने वाला जुलूस टाउन हॉल के पास से उठाया जाएगा, जो मैदागिन चौराहा, बुलानाला नीचीबाग से होते हुए गुरुद्वारा नीचीबाग पहुंचेगा। यहां पर गुरुद्वारा के ग्रंथियों द्वारा जुलूस में शामिल उलेमा का सम्मान किया जाएगा।

विज्ञापन

विज्ञापन

जुलूस की अगुआई मौलाना जमीरुल हसन, मौलाना अकील हुसैनी, मौलाना नदीम असगर, मौलाना फरमान रजा करेंगे। इस संबंध में संयोजक हाजी फरमान हैदर ने बताया कि चौक चौराहे पर सक्षिप्त तकरीर होगी। जुलूस दालमंडी से होते हुए नई सड़क पहुंचेगा। यहां पर भी मौलाना अली की शान में तकरीर होगी। जिसके बाद जुलूस सेख सलीम फाटक, कालीमहल, पितरकुंडा होते हुए दरगाहे फातमान पहुंचेगा जहां पर सेमीनार का आयोजन किया जाएगा।

विज्ञापन

सेमीनार में शिरकत करने के लिए संकट मोचन के महंत प्रोफ़ेसर विशम्भर नाथ मिश्र, संत वरिष्ठानन्द, फादर चंद्रकांत,नीचीबाग गुरुद्वारा के धर्मवीर, ब्रह्मकुमारी संस्था के विपिन एवं ईरान कल्चरल हाउस नई दिल्ली के निदेशक मौलाना मोहम्मद मुसावी अपने अपने विचार व्यक्त करेंगे।

विज्ञापन

इस अवसर पर कौम और इंसानियत के लिए सराहनीय कार्य करने वालों को दुर्रे नजफ़ अवार्ड से नवाजा जाएगा।

विज्ञापन