विज्ञापन

वाराणसी। पूर्वजों की आत्‍मा की शांति‍ के लि‍ये सपरि‍वार भारत पहुंचे मॉरि‍शस के राष्‍ट्रपति‍ पृथ्‍वीराज सिंह रूपन गुरुवार शाम वाराणसी पहुंचे। राष्‍ट्रपति‍ रूपन गया और नालंदा के बाद सीधे वाराणसी पहुंचे हैं। यहां उन्‍होंने परि‍वार संग श्रीकाशी वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र में मत्‍था टेकने के बाद दशाश्‍वमेध घाट पर होने वाली दैनि‍क संध्‍या आरती का लाभ उठाया। इस दौरान मीडि‍या से बातचीत में राष्‍ट्रपति‍ रूपन ने कहा कि‍ प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के कारण पूरी दुनि‍या में भारत का वर्चस्‍व बढ़ रहा है।

विज्ञापन

राष्‍ट्रपति‍ रूपन गुरुवार शाम वाराणसी पहुंचे हैं। श्रीकाशी वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र में दर्शन पूजन के बाद राष्‍ट्रपति‍ रूपन ने वि‍श्‍वनाथ कॉरीडोर को भी देखा। उन्‍होंने नि‍र्माणाधीन वि‍श्‍वनाथ धाम की सराहना की है। साथ ही ये भी कहा कि‍ काशी वि‍श्‍वनाथ धाम और वाराणसी के घाट पहले से ज्‍यादा साफ सुथरे हो गये हैं।

विज्ञापन

राष्‍ट्रपति‍ रूपन इसके बाद दशाश्‍वमेध घाट पहुंचे, जहां उन्‍होंने प्रति‍दि‍न संध्‍या के समय होने वाली मां गंगा की आरती का लाभ उठाया। इस दौरान परि‍वार संग राष्‍ट्रपति‍ रूपन ने काफी देरतक गंगा आरती को अपलक नि‍हारा साथ ही भक्‍ति‍ गीतों के साथ लय मि‍लाते हुए तालि‍यां भी बजाते रहे। इसके उपरांत राष्‍ट्रपति‍ रूपन परि‍वार संग गंगा सेवा नि‍धि‍ के कार्यालय पहुंचे। यहां संस्‍था के सचि‍व हनुमान यादव ने राष्‍ट्रपति‍ को अंगवस्‍त्रम और मोमेंटो देकर उनका अभि‍वावदन कि‍या।

विज्ञापन

विज्ञापन

बाद में मीडि‍या से बातचीत करते हुए उन्‍होंने अमेरि‍का के राष्‍ट्रपति‍ डोनॉल्‍ड ट्रंप के भारत आगमन को भारत की ताकत बताया, साथ ही कहा कि‍ इससे ये दि‍खता है कि‍ प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के नेतृत्‍व में भारत दुनि‍या में काफी मजबूत स्‍थि‍ति‍ में पहुंच गया है। राष्‍ट्रपति‍ रूपन ने बताया कि‍ उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी से कहा है कि‍ मॉरि‍शस और भारत के रि‍श्‍ते स्‍पेशल नहीं सुपर स्‍पेशल हैं। साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री इंदि‍रा गांधी को याद करते हुए बताया कि‍ उन्‍होंने कहा था कि‍ मॉरि‍शस एक लि‍टि‍ल इंडि‍या है।

मारीशस के राष्ट्रपति पृथ्वीराज सिंह रूपन गुरुवार की शाम श्री काशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचे जहां उन्होंने बाबा विश्वनाथ का पूजन अर्चन कर मंगल कामना की। राष्ट्रपति सपरिवार शाम 5:30 मंदिर पहुंचे गेट नंबर 4 से होते परिसर पहुंचे। उन्होंने मंदिर में जाकर विधि विधान से पूजन किया। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक विशाल सिंह ने राष्ट्रपति को अंग वस्त्र रुद्राक्ष और प्रसाद देकर सम्मानित किया। राष्ट्रपति ने कहा कि बाबा का दर्शन पूजन कर मैं धन्य हो गया। अगली बार आऊंगा तो बाबा का एक भव्य परिसर देखने को मिलेगा। इसके बाद राष्ट्रपति माता अन्नपूर्णा के दरबार गए जहां उन्होंने विधि-विधान से पूजन किया।

बता दें कि‍ अफ्रीका महाद्वीप के दक्षि‍ण पूर्वी तट से तकरीबन 2 हजार कि‍लोमीटर दूर हिन्‍द महासागर में स्‍थि‍त मॉरि‍शस एक खूबसूरत देश है। मुख्‍य रूप से पर्यटन पर आधारि‍त इस देश पर पुर्तगाल, डच, फ्रांस और ब्रि‍टेन ने लंबे समय तक अपने उपनि‍वेश स्‍थापि‍त कि‍ये थे। इति‍हास में बड़ी संख्‍या में भारत के पूर्वी उत्‍तर प्रदेश और बि‍हार से गि‍रमि‍टि‍या मज़दूर मॉरि‍शस ले जाये जाते रहे हैं। सन 1968 में ब्रि‍टि‍श हुकूमत से आजाद होने के बाद यहां बड़ी संख्‍या में बसे भारतवंशि‍यों का प्रभाव राजनीति‍क रूप से सामने आया। यहां की बहुसंख्‍य आबादी हि‍न्‍दू है।

देखें वीडि‍यो

विज्ञापन