डीएलडब्ल्यू में पथ प्रदर्शक की भूमिका निभा रहा है राजभाषा हि‍न्‍दी

वाराणसी। डीजल रेल इंजन कारखाना महाप्रबंधक सभा कक्ष में गुरुवार को डीरेका राजभाषा कार्यान्वयन समिति (डीराकास) की तिमाही बैठक का आयोजन किया गया।

बैठक की अध्‍यक्षता करती हुईं महाप्रबंधक रश्मि गोयलने अपने सम्बोधन में कहा कि तकनीकी क्षेत्र में राजभाषा का सराहनीय प्रयोग कर डीरेका कार्यालयों के लिए पथ प्रदर्शक की भूमिका का निर्वाह कर रहा है। यह डीरेका के लिए प्रसन्‍नता की बात है कि डीरेका का राजभाषा विभाग नगर के कार्यालयों में भी राजभाषा नीति के कार्यान्‍वयन के लिए प्रयासरत है।

विज्ञापन

उन्‍होंने उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित किया कि कार्यालयी कार्य में अनुवाद पर निर्भर न होकर मूल रूप से राजभाषा में ही कार्य करें एवं औरों को प्रेरित करें। साथ ही समस्‍त कर्मचारियों को नए निर्देश स्‍पष्‍ट एवं सरल हिन्‍दी में दिया जाएं। डीरेका के नवीन चुनौतियों का उल्‍लेख करती हुईं महाप्रबंधक ने कहा कि वर्तमान समय में डीरेका परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है । हमारे समक्ष उत्‍पादन की नई चुनौतियां है।

इस अवसर पर उपस्थित विभागाध्‍यक्षों एवं अधिकारियों द्वारा अपने-अपने विभाग से प्रस्‍तुत हिन्दी की प्रगतिरिपोर्ट पर चर्चा की गयी एवं अपने विचार प्रस्‍तुत किये गये। बैठक का संचालन एवं धन्‍यवाद ज्ञापन वरिष्‍ठ राजभाषा अधिकारी ने किया।

 

Loading...