विज्ञापन

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के स्टांप एवं पंजीयन शुल्क राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रवीन्द्र जायसवाल ने बुधवार को जिलाधिकारी एवं कमिश्नर से मिलकर पशु पालकों के पशु आहार में आने वाली दिक्कत के संदर्भ में बात किया। उन्होंने कहा के कोरोना वायरस के संक्रमण एवं बचाव हेतु सरकार द्वारा निर्धारित 21 दिनों के लॉकडाउन के दौरान आम जनता तो अपना जीवनयापन कर लेगी, लेकिन पशुपालकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा, क्योंकि अधिकांशतः लोगों के पास पशुओं का अधिक चारा नही है, जो है वह भी कुछ दिनों भर का है।

उन्होंने कमिश्नर एवं जिलाधिकारी से वार्ता कर कहा कि बाहर से आने वाली भूसे की गाड़ियों को रोका न जाय, जिससे गौपालकों को चारे की कमी न हो।

जिलाधिकारी ने आश्वासन देते हुए कहा कि कल से जरूरी सामानों के लिये प्रशासनिक अनुमति के लिए दिशानिर्देश दे दिए गए हैं और फ्लोर मिल एसोसिएशन ने विषय रखा था कि फ्लोर मिल संचालकों को यदि गेहू की अधिकता मिल जाय, तो आटा सस्ते दर पर जनता को उपलब्ध कराया जा सकेगा।

इस पर मंत्री रवीन्द्र जायसवाल ने कमिश्नर से वार्ता कर यह स्पष्ठ किया कि FCI ने गेहू के लिए टेंडर निकाल दिया है और फ्लोर मिल संचालकों व छोटी चक्की संचालकों सस्ती दर पर गेहूँ उपलब्ध कराया जाएगा। ताकि जनता को सस्ते दर पर आटा उपलब्ध हो सके।

इस विषय पर मंत्री रविंद्र जायसवाल ने केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान से भी इस विषय पर बात की है।

विज्ञापन