मंदिर बनाने में सहयोग करें मुस्लिम भाई, ये दोनों पक्षों के लिए अच्छा : बाबा संतोष दास

वाराणसी। श्रीराम जन्म भूमि न्यास/बाबरी मस्जिद के ऊपर उच्चतम न्यायलय ने आज फैसला सुनाया। इस फैसले में विवादित 2.7 एकड़ ज़मीन कोर्ट ने रामलला को दी है और केंद्र सरकार से ट्रस्ट बनाकर तीन महीनों में मंदिर बनाने की कवायद शुरू करने के निर्देश दिए हैं। वहीं मुस्लिम पक्षकारों के लिए सरकार को निर्देशित किया है कि वो उन्हें अयोध्या की परिधि में 5 एकड़ ज़मीन मस्जिद के लिए मुहैया कराये ताकि नमाज़ हो सके।

इस फैसले के बाद धर्माचार्यों ने सौहार्द करते हुए सन्देश दिए हैं। इसी क्रम में मणिकर्णिका घाट पर स्थित सतुआ बाबा आश्रम के बाबा संतोष दस ने कहा कि रामललाल को दी गयी है विवादित ज़मीन तो अब मुस्लिम भाई भी मंदिर बनाने में सहयोग करें ये उनके लिए भी अच्छा होगा और हमारे लिए भी।

बाबा संतोष दास ने कहा कि भारतीय उच्चतम न्यायलय ने आज अपने श्रीराम जन्म भूमि न्यास/ बाबरी मस्जिद पर दिए गए फैसले से पूरे देश को सन्देश दिया है। उच्चतम न्यायलय ने पूरी दुनिया को बताया की अयोध्या में ही श्री राम का जन्म हुआ था और ये ज़मीन उन्ही की है।

बाबा संतोष दास ने इस मौके पर मुस्लिम भाइयों को सन्देश देते हुए कहा कि उन्हें भी कोर्ट ने सरकार द्वारा 5 एकड़ ज़मीन मस्जिद बनाने के लिए देने का आदेश दिया है ताकि उनकी इबादत पर आंच ना आए।

देखिये वीडियो 

Loading...