अयोध्या फैसले को लेकर वाराणसी में अफसरों ने किया शहर के गणमान्य लोगों से संवाद, ताकि बना रहे सौहार्द

वाराणसी। अर्से से चले आ रहे अयोध्या विवाद पर देश की सर्वोच्‍च न्‍यायालय आने वाले कुछ ही दिनों के अंदर निर्णायक फैसला सुनाने जा रही है। इसे लेकर पूरे देश में चर्चाओं का बाजार गर्म है। इन सबके बीच एक चिंता जो हर किसी को सता रही है वो ये कि असामाजिक तत्‍व कहीं देश के सौहार्द को न बिगाड़ डालें।

बना रहेगा सौहार्दपूर्ण माहौल
इन्‍हीं चिंताओं और आशंकाओं के बीच गुरुवार को वाराणसी में वरिष्‍ठ प्रशासनिक अधिकारियों और पुलिस विभाग के आला अफसरों ने बनारस की पीस कमेटियों के साथ संयुक्‍त बैठक की। बैठक में अधिकारियों की ओर से सभी को ये आश्‍वस्‍त किया गया है कि किसी भी हाल में शहर का माहौल अमन और सौहार्दपूर्ण बना रहेगा।

विज्ञापन

भारी संख्‍या में पहुंचे दोनों धर्मों के लोग
अधिकारियों ने शहर के व्यापारियों, मंदिर के पुजारियों और मस्जिद के इमाम और गणमान्य लोगों से संवाद किया। साथ ही उनसे शहर में सौहार्द कायम रखने के लिए अपील किया। जनपद की इस पीस मीटिंग में व्यापारियों और दोनों ही धर्मों के लोग भारी संख्या में पहुंचे।

ये अधिकारी रहे मौजूद
पीस कमेटी की बैठक में वाराणसी मंडल के कमिश्‍नर दीपक अग्रवाल, एडीजी जोन बृजभूषण, आईजी रेंज विजय सिंह मीणा, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, एसएसपी प्रभाकर चौधरी, एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह, एडीएम सिटी विनय कुमार सिंह, एसपी ग्रामीण मार्तण्‍ड प्रकाश सिंह आदि अधिकारी मौजूद रहे।

हम पूरी तरह से मुस्‍तैद हैं : एडीजी
इस सम्बन्ध में एडीजी ज़ोन बृज भूषण ने बताया कि माननीय सुप्रीम कोर्ट का अयोध्या मामले पर फैसला आने वाला है। हमारे जनपद में साम्प्रदायिक सौहार्द बना रहे इसे देखते हुए हमने आज जनपद पीस कमेटी की बैठक आज बुलाई गयी थी। इस मीटिंग में भारी संख्या में लोग आये थे और सभी को हमने विश्वास दिलाया है कि हम सभी मुस्तैद हैं।

तीन स्‍तर पर कार्य कर रही है पुलिस
उन्होंने बताया कि इस जजमेंट को देखते हुए हम तीन पहलू पर काम कर रहे हैं। पहला हम जनसहयोग ले रहे हैं। हर थाने में हर मोहल्ले में जाकर पीस कमेटी की मीटिंग की जा रही है। वहां के लोगों को ज़िम्मेदार बनाया जा रहा है। पीस कमेटी नियुक्त की जा रही है। वो सभी ये ज़िम्मेदारी ले रहे हैं कि यहाँ कि सुरक्षा को हम संभालेंगे। तो पहला हमारा काम है जन सहयोग प्राप्त करना और जिसमे हम सफल भी हैं और लोगों का विशवास जीत भी रहे हैं।

असामाजिक तत्‍वों पर लगाम
एडीजी ज़ोन ने बताया हम दूसरा काम एंटी सोशल एलिमेंट्स पर रोक का कर रहे हैं। पूरे जनपद में एंटी सोशल एलिमेंट्स को पाबंद किया जा रहा है। जो कम्यूनल गुंडे हैं उन्हें हम पाबन्द कर रहे हैं। उनके ऊपर गुंडा एक्ट की कार्रवाई की जा रही हैं, जिससे उनके द्वारा किसी भी प्रकार की अवांछनीय गतिविधि उनके द्वारा न की जाये। असलहों को रिकवर किया जा रहा। इसके अलावा अवैध असलहों को सर्च किया जा रहा है।

सोशल मीडिया पर पैनी नजर
एडीजी ने बताया कि तीसरा पहलू हमारी तैयारी का सबसे महत्वपूर्ण है। हम सोशल मीडिया पर नज़र रख रहे हैं। हमारी जो जोनल, जनपद की और पुलिस की सोशल मीडिया सेल है वो व्हाट्सप्प, फेसबुक और ट्विटर सहित सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर पैनी निगाह रख रही है। किसी भी तरह की अफवाह, आपत्तिजनक पोस्ट डालने वाले को तुरंत गिरफ्तार कर कार्रवाई की जाएगी। भड़काऊ पोस्ट करने पर उन्हें तत्काल गिरफ्तार करेंगे हम।

एक ही जगह से कंट्रोल करेंगे पूरा जोन
इसके अलावा उन्होंने बताया कि जोनल स्तर पर हमारी पुलिस फ़ोर्स का रेडियो सिस्टम एक्टिव है। हम एक जगह से पूरे ज़ोन को कंट्रोल करेंगे। उन्होंने बताया कि जितनी भी एंटी राइट्स ड्रिल होती हैं सभी को पूरा करा दिया गया है। एंटी राइट्स वैपन, टियर गैस और बंदूकों को चलाकर चेक कर लिया गया है।

इंटेलिजेंस से इकट्ठा कर रहे सूचना
एडीजी ने बताया कि हर ग्राम में 10 से 12 सरकारी कर्मचारी होते हैं। सभी से हम मदद ले रहे हैं। चाहे वो क्षेत्र पंचायत अधिकारी या ग्राम पंचायत अधिकारी, आंगनवाड़ी या शिक्षा मित्र हैं इन सभी से हम सूचना संकलन का कार्य कर रहे हैं, जितने भी इंटिलेजेंस की सूचनाएं हैं वो हमें प्राप्त हो रही है। इसके अलावा गांव के कोटेदारों से भी सहयोग ले रहे हैं।

जुलूस और नारेबाजी पर प्रतिबंध
एडीजी ने आश्वासन दिया कि मुझे पूरा विशवास है कि हमारी तैयारी पर्याप्त हैं, कहीं भी कोई अप्रिय घटना नहीं होगी और माहौल शांत बना रहेगा। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि किसी भी तरह का जुलूस निकालने पर और नारेबाजी करने पर पूर्ण रूप से पाबन्दी होगी।

देखें वीडियो

Loading...