बाढ़ प्रभावि‍तों का दर्द : साहब राहत सामाग्री मिली पर ईंधन नहीं, कैसे बनायें खाना?

वाराणसी। प्रशासन की ओर से बाढ़ पीड़ितों लिए हर मुकम्‍मल व्यवस्था की बात कही जा रही है, मगर तमाम ऐसी जगहें हैं जहां असलि‍यत कुछ और ही है। प्रशासन की ओर से से मिलने वाली बाढ़ राहत सामग्री बाढ़ पीड़ि‍तों के पास तक मातहत पहुंचा तो रहे हैं पर वो राहत सामाग्री लेकर भी दो-जून की रोटी को बेबस हैं, क्योंकि उनके पास खाना पकाने के लिए ईंधन नहीं है।

ताज़ा मामला चिरईगांव ब्लाक के रामपुर का है, जहां प्राथमिक विद्यालय में शरण लिए बाढ़ पीड़ितों से ग्राम प्रधान और लेखपाल ने ईंधन की व्यवस्था बात कही। अब बाढ़ पीड़ित लाई-चने पर आश्रित हैं और शासन की राहत सामाग्री सड़ रही है।

जनपद के चिरईगाँव ब्लाक के रामपुर गांव में बाढ़ का प्रकोप जारी है। ऐसे में प्राथमिक पाठशाला रामपुर जो कि क्षेत्र की बाढ़ चौकी के साथ साथ शेल्टर होम भी है में बाढ़ से प्रभावित 19 परिवारों के 50 से अधिक लोग आश्रय लिए हुए हैं। इन्हे जिला प्रशासन द्वारा बुधवार को राहत सामाग्री का पैकेट लेखपाल और ग्राम प्रधान ने बांटा पर इन्हे ईंधन नहीं दिया, जिससे ये शरणार्थी रोटी के लिए तरस रहे हैं।

इस सम्बन्ध में बाढ़ शरणार्थी सुमन देवी ने बताया कि बाढ़ राहत सामाग्री में हमें आलू, चावल, आटा और मसाला दिया गया है। हमने जब ग्राम प्रधान और लेखपाल से खाना बनाने के लिए ईंधन की बात कही तो ग्राम प्रधान ने दो टूक जवाब दिया और कहा कि ‘राहत सामाग्री लहा के ले आये हैं अब ईंधन आप लोग लहा लो।’ छोटे छोटे बच्चे हैं कैसे गुज़रा होगा। बच्चों को देखकर जाना ही पड़ेगा इंतज़ाम करने पर बरसात में कैसे लकड़ी जलेगी यह भी चिंता का विषय है।

रामपुर की रहने वाली और बाढ़ पीड़िता सरिता बताया कि बाहर भी जगह नहीं है और अंदर कमरें में टायल्स बिछा हुआ है। हम खाना अपने से भी नहीं बना सकते लकड़ी जलाकर, अब बच्चों को लाई-चना खिलाकर रखेंगे।

इस सम्बन्ध में हमने जब एडीएम फाइनेंस (बाढ़ प्रभारी) सतीश पाल से बात की तो उन्होंने कहा कि जिन लोगों को कच्ची राहत सामाग्री दी जा रही हैं उनके लिए हम ईंधन की वयवस्था नहीं कर रहे हैं और जो बाढ़ पीडीत शेल्टर होम में रह रहे हैं या हमारे आश्रयों में उनके लिए हम पके भोजन की व्यवस्था कर रहे हैं। चिरईगांव ब्लाक के रामपुर प्राथमिक विद्यालय में आश्रय लिए बाढ़ पीड़ितों को ईंधन न दिए जाने और कच्ची सामाग्री बांटे जाने की सूचना आप द्वारा मिली है जांच की जा रही है जल्द ही बाढ़ पीड़ितों को पका हुआ खाना वितरित किया जाएगा यदि वो शेल्टर होम में हैं तो।

Loading...