विज्ञापन

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने वाराणसी के 10 वर्षीय बच्‍चे को पत्र भेजकर उसकी प्रशंसा की है साथ ही धन्‍यवाद भी दि‍या है। दरअसल, सम्‍यक ने हाल ही में अपने गुल्‍लक को प्रधानमंत्री केयर फंड के लि‍ये दान करते हुए पीएम मोदी को पार्सल कि‍या था।

सम्‍यक के पिता डॉक्टर उत्तम ओझा वाराणसी में काफी समय से समाजसेवा के क्षेत्र में कार्यरत हैं। पिता के ही नक्शेकदम पर चलते हुए सम्यक ने भी अपनी पॉकेट मनी से बचाकर गुल्लक में जमा किये गये रुपये को पीएम केयर फंड में दान कर दिया था।

इसके बाद प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने सम्‍यक को चिट्ठी भेजकर ना सि‍र्फ उनकी प्रशंसा की है बल्‍कि‍ धन्‍यवाद देते हुए उनका हौसला भी बढ़ाया है।

कोरोनावायरस से जंग में तमाम लोगों ने अपनी कमाई को प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री राहत कोष में दान कि‍या है। इसके अलावा काफी संख्‍या में बच्‍चों ने भी अपने गुल्लक में इकट्ठा कि‍ये गये पैसों को देश के नाम कर दि‍या। ऐसे ही बच्‍चों में शामि‍ल हैं वाराणसी के खोजवां नि‍वासी सम्‍यक ओझा।

केन्‍द्रीय वि‍द्यालय बीएचयू में पढ़नें वाले मात्र 10 साल के सम्‍यक ओझा ने गियर वाली साइकिल खरीदने के लिए गुल्लक में रुपये जमा किए थे, लेकिन कोरोना की लड़ाई में उन्होंने अपना गुल्लक पीएमओ को पार्सल कर दिया था। अब प्रधानमंत्री ने भी सम्यक के नाम चिट्ठी लिखकर उनके हौसले का मान बढ़ाया है। प्रधानमंत्री ने अपने लेटर में कहा है कि‍, ऐसे संस्कारों से ही राष्ट्र समृद्ध होता है।

प्रधानमंत्री ने लि‍खा है ऐसे संस्कार से ही व्यक्तित्व का निर्माण होता है। राष्ट्र को समृद्ध करता है। आपकी तरह कई और बच्चे भी कोरोना की लड़ाई में सभी के लिए प्रेरणा स्रोत हैं। बच्चों की सजगता और भागीदारी लड़ाई में नयी ऊर्जा दे रही है। आपने अल्पायु में ही गंभीरता को समझ लिया। मदद करने की प्रेरणा लोगों को जोड़ने का काम करती है।

इधर पीएम मोदी की चिठ्ठी पाकर सम्यक काफी खुश हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की ओर से सम्‍यक को भेजी गयी चि‍ट्ठी

विज्ञापन