Railway Ministry has decided, these important trains will run from Varanasi from June 1
विज्ञापन

वाराणसी। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए 22 मार्च को पहली बार पूरे देश में रेल सेवाएं जनता कर्फ्यू के दिन बंद की गयी थी। इसके बाद देश हित में रेलवे ने सभी गाड़ियों को लॉकडाउन के साथ ही साथ बंद रखने का फैसला लिया। लॉकडाउन 3 में श्रमिकों को उनके घर वापस लाने के लिए कुछ स्पेशल श्रमिक ट्रेनें चलाई तो अब लॉकडाउन-4 के समाप्त होने के अगले दिन से रेलवे ने 200 ट्रेनों को चलाने का फैसला करते हुए रेलवे ने ट्रेनों की लिस्ट जारी की है।

वाराणसी के लोगों के के लिए राहत भरी खबर ये हैं कि इन ट्रेनों में 5 जोड़ी ट्रेनें वाराणसी जंक्शन से चलेंगी। इसके अलावा सारी ट्रेनों में टिकट ऑनलाइन ही बुक होगा। टिकट घर सभी स्टेशनों के पूर्व की भांति बंद रहेंगे।

रेल मंत्रालय के फैसले के बाद एक जून से 200 जोड़ी ट्रेनें चलायी जाएँगी जिसमे दुरंतो और जनशताब्दी ट्रेनें भी हैं। इस क्रम में वाराणसी से 5 जोड़ी ट्रेनें, कामायनी एक्सप्रेस, महानगरी एक्सप्रेस, महामना एक्सप्रेस, साबरमती एक्सप्रेस और मंडुआडीह स्टेशन से शिवगंगा एक्सप्रेस को चालये जाने के लिए हरी झंडी मिल गयी है। इसके अलावा गाजीपुर स्टेशन से सुहेलदेव एक्सप्रेस, गाजीपुर-नई दिल्ली एक्सप्रेस और बांद्रा-गाजीपुर एक्सप्रेस चलेगी।

रेलवे की एडवाइज़री के अनुसार ट्रेन में सफर के लिए स्टेशन से काउंटर टिकट नहीं मिलेगा। सिर्फ  बुजुर्गों, दिव्यांगों और रियायत वाले यात्रियों को ही काउंटर से टिकट जारी किया जाएगा। इसके अलावा 90 मिनट पूर्व यात्रियों को स्टेशन पहुंचना होगा। बगैर मास्क के किसी भी यात्री को स्टेशन परिसर और ट्रेन में नहीं प्रवेश मिलेगा। ट्रेन में कम्बल और चादर नहीं मिलेगा, आमने सामने भी यात्री नहीं बैठ सकेंगे। बिना आरक्षण टिकट के किसी को भी सफर की अनुमति नहीं होगी।

रेलवे बोर्ड के जॉइंट डायरेक्टर के अनुसार ट्रेन के अंदर मौजूद पैंट्रीकार अभी बंद रहेगा। यात्रियों को खुद घर से खाना लेकर आना होगा। एक माह के अंदर ही आरक्षण अब मान्य होगा। यानी कि अब 90 दिनों तक एडवांस टिकट नहीं हो सकेंगे। टिकट आईआरसीटीसी के वेबसाइट पर ही मिलेंगे। हर यात्रियों की ट्रेन में चढ़ने और उतरने के दौरान थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य रूप से करना होगा।

विज्ञापन