विज्ञापन

वाराणसी। माह-ए-रमज़ान के चांद का दीदार शुक्रवार को हो गया है। चांद होते ही मुस्लिम बाहुल्‍य क्षेत्रों में मुबारकबाद देने वालों का तांता लग गया। इसके साथ ही शनिवार 25 अप्रैल को रमज़ान की पहली तारीख है। लॉकडाउन की वजह से मुस्लिम इलाकों में चहल-पहल नहीं देखी गयी पर लोगों ने एक दूसरे को फोन करके बधाई दी।

माह-ए-रमज़ान का चांद दिखते ही रोज़ेदारों ने सहर का एहतेमाम शुरू कर दिया है।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए पूरे देश मे लॉकडाउन लगा हुआ है। ऐसे में रमज़ान का चांद देखने के बाद मुस्लिम इलाकों में लोग अपने घरों में अल्लाह की इबादत में मशगूल हो गए हैं। लोग आज सुबह से ही कल पहला रोज़ा रखने की तैयारी में लग गए थे।

बात दें कि माह-ए-रमज़ान में मुस्लिम बंधु रोज़ा रखते हैं और ज़्यादा से ज़्यादा वक़्त अल्लाह की इबादत में गुज़ारते हैं।

चांद दिखने के बाद एक बार फिर मौलाना अब्दुल बातिन नोमानी और मौलाना ज़फर हुसैनी ने सभी मुस्लिम भाइयों से लॉकडाउन का अनुपालन करते हुए घरों में नमाज़ अता करने की अपील के साथ ही किसी भी प्रकार के सामूहिक रोज़ा अफ्तार ना करने की भी अपील भी की है।

विज्ञापन