विज्ञापन

वाराणसी। धर्म की नगरी काशी में चैत्र नवरात्र का अपना अलग ही महत्व है। काशी चैत्र नवरात्रि में नौ दुर्गा और नौ गौरी स्वरूप की आराधना की जाती है। इस वर्ष कोरोना वायरस का असर चैत्र नवरात्र में देखने को मिल रहा है। नवरात्र के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी के मंदिर ब्रह्मा घाट पर सन्नाटा पसरा रहा।

विज्ञापन

चैत्र नवरात्रि का आज दूसरा दिन है और आज के दिन मां ब्रह्मचारिणी का दर्शन पूजन की मान्यता है। धर्म की नगरी काशी में ब्रह्मा घाट पर स्थित मां ब्रह्मचारिणी का मंदिर लॉक डाउन की वजह से श्रद्धालुओं के लिए बन्द है। मंदिर में पुजारी परिवार ने मां ब्रह्मचारिणी के विधि विधान से पूजन अर्चन कर देश में सुख समृद्धि और शांति के साथ ही देश में फैले कोरोना वायरस को दूर करने की मां ब्रह्मचारिणी से कामना की।

विज्ञापन

नवरात्रि के वक्त देवी मंदिरों में जहां एक ओर लाखो की भीड़ उमड़ पड़ती थी तो वही अब धर्म की नगरी काशी के मंदिर भक्तों के बिना सुने पड़ चुके हैं। वाराणसी के ब्रह्मा घाट स्थित प्राचीन ब्रह्मचारिणी मंदिर में कुछ ऐसा ही नजारा चैत्र नवरात्रि के दूसरे दिन देखने को मिला। मंदिर में चारों तरफ सन्नाटा पसरा हुआ था और सिर्फ मंदिर के पुजारी ही मंदिर में पूजन पाठ और माता ब्रह्मचारिणी की आरती करते नजर आए। पुजारी राजेश कुमार की मानें तो उन्होंने अपने जीवन में कभी ऐसा नजारा नहीं देखा था।

विज्ञापन
विज्ञापन