1917 में स्थापित श्रीकाशी विश्वनाथ सनातन धर्म इंटर कॉलेज को कब्ज़े में लेगा मंदिर न्यास

वाराणसी। चौक थानाक्षेत्र के कालिका गली स्थित श्रीकाशी विश्वनाथ सनातन धर्म इंटर कालेज को श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर न्यास समिति अपने कब्ज़े में लेगी। इसकी कवायद कागज़ात सामने आने के बाद शुरू की गयी है। अधिग्रहण के 37 साल बाद जब न्यास परिषद् ने कागज़ात देखे तो अधिकारी चौंक गए और करवाई शुरू कर दी गयी। अभी तक न्यास परिषद् को यह जानकारी ही नहीं थी की उक्त विद्यालय पर काशी पुराधिपति का स्वामित्व है।

न्याय परिषद् के लोगों की मानें तो साल 1982 में जब श्रीकाशी विश्वनाथ का स्वामित्व प्रदेश सरकार के हाथों में आया तो विद्यालय में गड़बड़ियां शुरू हो गयी। न्यास गठित मंदिर की सम्पत्तियों और विद्यालय के बारे में कोई जानकारी ही नहीं ली, जिस कारण प्रबंध समिति ने इसपर अपना अधिपत्य जमा लिया।

विज्ञापन

न्यास के अधिकारियों ने जब कागज़ात देखा तो वो चौंक गए कि अभी तक इसपर अभी तक कब्ज़ा क्यों नहीं लिया गया।

मंदिर करता था विद्यालय का खर्च वहन
बता दें की श्रीकाशी विश्वनाथ सनातन धर्म विद्यालय की स्थापना साल 1917 में काशी विश्वनाथ मंदिर के महंत परिवार ने की थी। 1940 में विद्यालय सोसायटी एक्ट के तहत इसे पंजीकृत भी कराया गया है। प्रबंध समिति में विश्वनाथ मंदिर के महंत परिवार के चार सह हिस्सेदारों के अलावा तत्कालीन हस्तियां शामिल थीं। दस्तावेज़ों के अनुसार विद्यालय का समस्त खर्च का वहन विश्वनाथ मंदिर और छात्रों की फीस से उठाया जाता था। इसके अलावा विद्यालय को परसीपुर में 18 एकड़ उपजाऊ ज़मीन भी दान में मिली थी।

Loading...