विज्ञापन

वाराणसी। क्राइम ब्रान्च, मंडुआडीह और मिर्जामुराद पुलिस टीम द्वारा संयुक्‍त अभि‍यान में गुरुवार को धोखाधड़ी करके लूट करने वाले शातिर आरोपि‍यों को गिरफ्तार करने में सफलता मि‍ली है। इनके कब्जे से लूट के 50000/- रू और एक स्विफ्ट डिजायर कार बरामद हुई है।

पुलि‍स के अनुसार दिनांक 27 मई को थाना मिर्जामुराद पर बिल्डिंग मैटेरियल व्यापारी रविन्द्र कुमार सिंह निवासी ग्राम भीषमपुर थाना कपसेठी जनपद वाराणसी द्वारा लिखित सूचना दी गयी थी कि‍ 2 अज्ञात व्यक्तियों द्वारा जीआर कम्पनी की सस्ती सरिया दिलाने के नाम पर उनके लड़के से 200000/-रुपये लूट कर भाग गये हैं। इस सूचना पर थाना मिर्जामुराद पुलिस द्वारा मुकदमा अपराध संख्‍या 96/2020 धारा 419/420/392 आईपीसी पंजीकृत कर आवश्यक कार्रवाई की जा रही थी। बाद में व्‍यापारी ने बताया कि 150000/- रू0 उसकी गाड़ी में ही गिर गये थे जो मिल गये हैं। मात्र 50,000/-रुपये ही लूट हुई है।

इसके बाद क्राइम ब्रान्च, थाना मिर्जामुराद व थाना मण्डुवाडीह की संयुक्त पुलिस टीम द्वारा घटना में प्रयोग की गयी स्विफ्ट डिजायर वाहन UP 65 DB 1471 व मोबाइल नम्बर (जिससे वह सस्ती सरिया दिलाने के लिये वार्ता किया था) की मदद से 4 –5 घण्टे लगातार दबिश देने के बाद आरोपी अमित गुप्ता उर्फ छोटू बिहारी व राहुल कुमार दास को थाना मण्डुवाडीह क्षेत्र से गिरफ्तार कर कब्जे से लूट के 50,000/- व घटना में प्रयोग की गयी मारुती स्विफ्ट डिजायर व 2 मोबाइलबरामद हुआ।

पूछताछ में आरोपी अमित गुप्ता उर्फ छोटू बिहारी ने बताया कि कुछ दिन पूर्व पैरोल पर वह जेल से रिहा होकर बाहर आया था। पैसे की आवश्यकता थी। अतः व्यापारी बनकर लोहा सरिया व बिल्डिंग मैटेरियल बेचने वाले दुकानदारों को ठगने के उद्देश्य से शिवदासपुर में रहने वाले बन्टी जायसवाल पुत्र अशोक जायसवाल जिनकी जय अम्बे कैब सर्विस के नाम से ट्रवेलिंग एजेन्सी है, से गाड़ी किराये पर लेने के लिए कहा, तो उन्होने अपने यहां कोई गाड़ी खाली न होने से राहुल कुमार दास उपरोक्त की गाड़ी बुक करा दी थी।

मैने फोन से गाड़ी मंगायी तो राहुल कुमार दास उपरोक्त अपनी स्वीफ्ट डिजायर लेकर शिवदासपुर ब्लाक पर आया था और हम दोनो जंसा होते हुए सेवापुरी पहुंचे। वहां एक काफी बड़ा निर्माणाधीन मकान के पास रुके। वहां एक व्यक्ति से निर्माणाधीन मकान के स्वामी का नम्बर लेकर मैने अपने मोबाइल से फोन किया और बताया कि मै जीआरई कम्पनी में ठिकेदारी करता हूँ और आप को सरिया सस्ते रेट में दिलवा सकता हूँ।

फोन से वार्ता के बाद व्हाट्सएप से सरिया के स्टाक की फोटो भेज दी। इस पर मकान के स्वामी ने अपना नाम रविन्द्र कुमार सिंह बताया तथा सेवापुरी में अपनी बिल्डिंग मैटेरियल की दुकान पर आने को कहा तथा सरिया दिखाने के लिए साधु कुटिया थाना मिर्जामुराद स्थित जीआरई कम्पनी के आफिस गेट के सामने बुलाया तो वह अपनी कार से अपने लड़के व अपने नौकर के साथ आया।

मै व राहुल कुमार दास अपनी स्वीफ्ट डिजायर कार से वहां पहुंचे तो उससे पचास हजार एडवांस मांगा तथा बाकी पैसा लोड करने के उपरान्त तौल कराने के बाद देने को कहा। बातचीत करते समय मैने उसके लड़के के साथ में लिए रुपये छिनकर गाड़ी में बैठकर भाग आया। मैने दस हजार रुपये राहुल कुमार दास को साथ में रहने के कारण दे दिया था तथा चालीस हजार रुपया मैने रख लिया था।

वहीं दूसरे अभियुक्त राहुल दास द्वारा बताया गया कि बन्टी जायसवाल ने फोन करके बताया था कि एक कस्टमर को आज प्रयागराज जाना है तो मै तैयार हो गया था। मै अपनी स्वीफ्ट डिजायर गाड़ी UP 65 DB 1471 को भाड़े पर चलाता हूँ। वाहन मेरे पिता के नाम पर है। कस्टमर अमित कुमार गुप्ता से फोन से वार्ता हुई थी तो मैने उसकी आईडी के रुप में आधार कार्ड अपने व्हाट्सएप नम्बर पर भेजने के लिए कहा, तो उसने आधार कार्ड भेजा। उस पर उसका नाम अमित कुमार पुत्र जानकी राम निवासी शाहपुर अखाड़ा औरंगाबाद बिहार अंकित था। बन्टी जायसवाल ने बताया था कि मेरे मोहल्ले मे ही किराये के मकान में रहता है।

मै सुबह करीब 06.00 बजे शिवदासपुर ब्लाक के पास से लेकर प्रयागराज के लिए रवाना हुआ। मोहनसराय पर पहुंचकर इसने अपनी योजना बतायी कि उसे व्यापारी बनकर किसी दुकानदार को सरिया देने के बहाने बुलाना है तथा उसका पैसा ठगकर लेकर लौट आयेंगे। तुमको खाली बस गाड़ी चलाते रहना है। यह हमको लेकर जंसा के रास्ते सेवापुर ले गया कई जगह दुकानों पर रुककर बातचीत की तथा सेवापुरी में एक बिल्डिंग मैटेरियल के यहां सरिया बेचने का सौदा किया तथा उसको हाइवे पर स्थित मिर्जामुराद के आगे साधु कुटिया पर स्थित जीआई कम्पनी आफिस के सामने बुलाया तो वह अपने लड़के व नौकर के साथ स्वीफ्ट कार से आया तथा जीआरई कम्पनी आफिस के बाहर सर्विस लेन के पास कालिका होटल के पास उतकर गया। वहां गाड़ी से रुपया छिनकर तेजी से भागकर गाडी में बैठकर मुझे भागने के लिए कहा तो मै उसको लेकर भाग आया था। इसने मुझे 10000/- रुपये हिस्से के दिये थे तथा हम लोग शहर में इधर उधर घूमते रहे।

गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में प्रभारी नि‍रीक्षक सुनील दत्त दुबे, सब इंस्‍पेक्‍टर राजेश कुमार मिश्र, कांस्‍टेबल सिद्धार्थ, कांस्‍टेबल बृजेश कुमार यादव थाना मिर्जामुराद से तथा सब इंस्‍पेक्‍टर राघवेन्द्र सिंह, चौकी प्रभारी डीएलडब्लू सब इंस्‍पेकटर अजय कुमार, चौकी प्रभारी लहरतारा, सब इंस्‍पेक्‍टर अजय दुबे, चौकी प्रभारी मड़ौली थाना मंडुआडीह से शामि‍ल रहे।

विज्ञापन