Two railway employees were assaulted at Varanasi Junction the matter reached the GRP police station
विज्ञापन

वाराणसी। शहर के कैंट स्टेशन पर एक ट्रेन में दो रेलवे कर्मचारियों में ज़बरदस्त मारपीट हो गयी। मारपीट की सूचना पर पहुंची जीआरपी दोनों पक्षों को थाने ले आयी। इस दौरान एक कर्मचारी ने दूसरे कर्मचारी पर मारपीट का आरोप लगाते हुए जीआरपी थाने में नामजद तहरीर दी है। इस तहरीर के बाद जीआरपी पकडे गए व्यक्ति से पूछताछ कर रही है।

विज्ञापन

इस सम्बन्ध में तहरीर देने वाले उत्तर रेलवे के वाराणसी जंक्शन के डिप्टी सीटीआई विजय कुमार मौर्या ने बताया कि आज मै गाड़ी संख्या 5160 (सारनाथ एक्सप्रेस) लेकर वाराणसी जंक्शन के प्लेटफार्म नंबर 4 पर इन कर रहा था। उसी समय जिस कोच में मै था उसके गेट पर एक व्यक्ति जो कि खुद को डोभी स्टेशन पर सिग्नल मेंटेनर बता रहा है चढ़ने लगा तो मैंने कहा की चलती ट्रेन पर मत चढ़िये हादसा हो जाएगा, तो बोला की मेरा पैर फ्रेक्चर है तो हमने कहा कि तब तो आप को रिस्क नहीं लेना चाहिए।

विज्ञापन

विजय कुमार मौर्या ने आरोप लगाया कि उसके बाद भी उक्त व्यक्ति नहीं माना और मुझे धक्का देते हुए ऊपर चढ़ गया और मेरा हाथ घुमाते हुए मुझे शौचालय के पास ले गया और मुझे काफी मारा जिससे मेरी नाक से खून भी आ गया। उसके बाद उन्होने धौंस जमाने के लिए खुद को आरपीएफ का जवान बताया। इस मारपीट की सूचना मैंने जीआरपी को दी है और यहाँ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई है।

विज्ञापन

जीआरपी ने ट्रेन के प्लेटफार्म नबर चार पर पहुँचने पर उत्तर रेलवे के वाराणसी जंक्शन के डिप्टी सीटीआई विजय कुमार मौर्या और उनकी निशानदेही पर डोभी जंक्शन पर पूर्वोत्तर रेलवे के सिग्नल मेंटेनर नारायण चतुर्वेदी को उतार लिया और जीआरपी थाने ले आये। नारायण चतुर्वेदी ने इस सम्बन्ध में अपना पक्ष रखते हुए बताया कि मेरे पैर में मोच है और मै अभी थोड़ी देर पहले सारनाथ एक्सप्रेस में चढ़ने की कोशिश करने लगा तो एक व्यक्ति ने हमें धकेल दिया जिससे मै गिर भी जाता। उन्होंने कहा कि आप कैसे चढ़ जायेंगे नहीं चढ़ने दूंगा।

विज्ञापन

नारायण चतुर्वेदी ने बताया कि उन्होंने मेरे साथ बदतमीज़ी की है और साथ ही उनके द्वारा लगाया गया आरोप पूरी तरह से गलत है। फिलहाल जीआरपी इस सम्बन्ध में जांच कर अग्रिम कार्रवाई करने की बात कह रही है।

देखें वीडियो 

विज्ञापन