विज्ञापन

वाराणसी। वर्तमान समय में नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण को भारत में महामारी घोषि‍त कि‍या गया है। प्रधानमंत्री ने 25 मार्च से 14 अप्रैल तक संपूर्ण भारत को लॉकडाउन करने की घोषणा कर दी है। इसे देखते हुए वाराणसी के जि‍लाधि‍कारी कौशल राज शर्मा ने नोवल कोरोना वायरस (कोवि‍ड-19) के प्रसार को रोकने के लि‍ये जनहि‍त में दि‍नांक 25 मार्च 2020 से 14 अप्रैल 2020 तक वि‍शेष प्रति‍बंध लगाया है।

विज्ञापन

जि‍लाधि‍कारी ने वाराणसी के सम्‍पूर्ण क्षेत्र में नोवल कोरोना वायरस (कोवि‍ड 19) के प्रसार को रोकने के लि‍ये एवं शांति‍ व्‍यवस्‍था सुनि‍श्‍चि‍त कि‍ये जाने के लि‍ये धारा 144 सीआरपीसी के अंतर्गत नि‍म्‍नलि‍खि‍त नि‍षेधाज्ञा पारि‍त कर दि‍या है।

विज्ञापन

1. इस अवधि‍ में सभी नागरि‍क आपातकालीन स्‍थि‍ति‍ को छोड़कर अपने अपने घरों में रहेंगे। सभी नि‍जी दोपहि‍या, तीन पहि‍या, चार पहि‍या वाहन, साइकि‍ल का संचालन पूर्णतया प्रति‍बंधि‍त होगा। आवश्‍यक सेवाओं की कि‍सी को आवश्‍यक्‍ता होगी तो वह अपने मोहल्‍ले स्‍थि‍त दुकान से ही सामान खरीदेगा व इसके लि‍ये कोई वाहन प्रयोग नहीं करेगा।

विज्ञापन

2. सभी वाणि‍ज्‍यि‍क प्रति‍ष्‍ठान, दुकानें, शैक्षि‍क संस्‍थान, नि‍जी प्रति‍ष्‍ठान, रेस्‍टोरेंट/होटल, आदि‍ पूर्ण रूप से बंद रहेंगे।
3. सभी ढाबे, मि‍ष्‍ठान भंडार, जलपान गृह, रेस्‍टोरेंट, काफी हाउस, कैफे, खाने-पीने की चाट- स्‍नैक्‍स की दुकानें, ठेले (सब्‍जी फल छोड़कर), तम्‍बाकू, गुटखा, पान, चाय की दुकानें दि‍नांक 14 अप्रैल तक बंद रहेंगे।

विज्ञापन

4. अधि‍कारि‍क लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लि‍ये और केवल जरूरी मरीजों पर फोकस करने के लि‍ये जनपद के सभी नि‍जी और सरकारी अस्‍पतालों और क्‍लि‍नि‍क्‍स पर सामान्‍य ओपीडी 14 अप्रैल 2020 तक बंद की जाती हैं। इनमें केवल इमरजेंसी और सर्दी, कोल्‍ड, फ्लू, बुखार, कोरोना संबंधी मरीज ही देखे जाएंगे। इमरजेंसी में हर प्रकार की बीमारी की इमरजेंसी देखी जाएगी। सरकारी अस्‍पतालों में 24 घंटे सर्दी, कोल्‍ड, फ्लू, बुखार, कोरोना की ओपीडी चलाई जाएगी। गैर जरूरी मरीज फोन से ही अपने डॉक्‍टर से संपर्क कर सीधे दवा खरीदें और संक्रमण से बचें।

5. फल, सब्‍जी, दूध की होलसेल मंडि‍यां प्रति‍दि‍न खुलेंगी। इनके खुलने का समय केवल प्रात: 6 बजे से 10 बजे तक होगा। ये केवल रि‍टेल सप्‍लायर को ही बेचेंगे व कि‍सी ग्राहक को सीधे सामान नहीं बेचेंगे। प्रत्‍येक दूध के दुकानदार एक दूसरे से डेढ़ मीटर की दूरी पर लाइन में रहकर दूध खरीदेंगे।
6.नाज, गल्‍ला, कि‍राना, जनरल स्‍टोर, दवाइयां, पोल्‍ट्री व अण्‍डे की होलसेल मंडि‍यों सप्‍ताह में 3 दि‍न यथा मंगलवार बहस्‍पति‍वार व शनि‍वार को ही खुलेंगी। इन 3 दि‍नों में इनके होलसेल दुकानदार प्रात: 10 बजे से दोपहर 2 बजे के बीच ही अपने रि‍टेल दुकानदारों को ही सामान देंगे। इसके अलावा सप्‍ताह में बाकी 4 दि‍न 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक सामान लोडिंग अनलोडिंग, ट्रांसपोट के लि‍ये दुकानें खुली रख सकते हैं। इन चार दि‍नों में वे रि‍टेल दुकानदारों को सामान नहीं बेच सकेंगे।

7. आवश्‍यक वस्‍तुओं का वि‍क्रय करने वाले रि‍टेल जैसे अनाज, गल्‍ला, कि‍राना, जनरल स्‍टोर, दूध, सब्‍जी, फल, पोल्‍ट्री व अण्‍डा की दुकानें कृषि‍ संबंधी बीज, संयत्र, रसायन, उर्वरक की दुकानें, पोल्‍ट्री फीड, पशु चारा की दुकानें प्रति‍दि‍न प्रात: 11 बजे तक ही खुलेंगी।
8. आवश्‍यक वस्‍तुओं की होम डि‍लवरी, जैसे-दूध, रसोई गैस, राशन, फल सब्‍जी प्रति‍दि‍न सायं 6 बजे तक चल सकती हैं। इसी प्रकार ट्रांसपोर्ट, लॉजि‍स्‍टि‍क, कुरि‍यर, वेयर हाउस, शीतगृह, खाद्य प्रसंस्‍करण से संबंधि‍त इकाइयों, आटा चक्‍की सायं 6 बजे तक प्रति‍दि‍न खुल सकती हैं। होम डि‍लीवरी वाली दुकानें ग्राहक को सीधे अपने दुकान पर सामान नहीं बेचेंगे व शटर आधा डाउन रखेंगे।

9. इसके अलावा डॉक्‍टर क्‍लि‍नि‍क और सभी नि‍जी अस्‍पताल, पैथेलॉजी लैब से जुड़े रि‍टेल एवं होलसेल की दुकानें, प्रति‍ष्‍ठान, न्‍यूज पेपर, मीडि‍या के आफि‍स और प्रेस, अखबार वि‍तरण के हाकर्स पूरी तरह प्रति‍बंध से मुक्‍त रहेंगे।
10. बैंक, एटीएम एवं बीमा कम्‍पनी आफि‍स जन सामान्‍य के लि‍ये दोपहर 12 बजे तक खुलेंगे।

11. कि‍सी भी दुकान, मंडी से कोई भी ग्राहक एक दूसरे से डेढ़ मीटर की दूरी पर केवल लाइन में खड़े होकर सामान खरीदेंगे। यदि‍ ग्राहक इस दूरी पर नहीं रहते हैं तो ऐसी दुकानों पर भी कार्रवाई की जाए।
12. ऊपर दी गयी व्‍यवस्‍थाओं से जुड़ी रि‍टेल, थोक की दुकानों के कर्मचारी व वाहन भी प्रति‍बंध से मुक्‍त रहेंगे।

यह आदेश जनपद वाराणसी के सम्‍पूर्ण क्षेत्र में दि‍नोंक 25 मार्च 2020 से दि‍नांक 14 अप्रैल 2020 तक प्रभावी रहेगा। आदेश में वर्णि‍त प्रति‍बंधों की अवहेलना भारतीय दंड वि‍धान की धारा 188 के अन्‍तर्गत दण्‍डनीय अपराध होगा।

चूंकि‍ स्‍थि‍ति‍ की गंभीरता एवं तात्‍कालि‍क आवश्‍यक्‍ता को देखते हुए उक्‍त प्रति‍बंधों को तत्‍काल प्रभावी कि‍या जाना आवश्‍यक है और समयाभाव के कारण कि‍सी अन्‍य पक्ष को सुनवाई का अवसर प्रदान कर पाना संभव नहीं है, ऐसे में यह आदेश एक पक्षीय रूप से पारि‍त कि‍या जा रहा है।

इस आदेश के उल्‍लंघन का संज्ञान जनपद में तैनात पुलि‍स उप नि‍रीक्षक स्‍तर से अथवा उससे वरि‍ष्‍ठ कि‍सी भी पुलि‍स अधि‍कारी एवं तहसीलदार, मजि‍स्‍ट्रेट, उप जि‍ला मजि‍स्‍ट्रेट, नगर मजि‍स्‍ट्रेट, सभी अपर नगर मजि‍स्‍ट्रेट द्वारा लि‍या जा सकेगा।

इस आदेश अथवा आदेशके कि‍सी भी अंश का उल्‍लंघन भारतीय दंड संहि‍ता की धारा 188 के अन्‍तर्गत दण्‍डनीय अपराध होगा।

विज्ञापन