वाराणसी के इस युवा IPS की कवि‍ता ‘मैं खाकी हूं’ सोशल मीडि‍या पर हो रही जमकर वायरल

Advertisements

वाराणसी। वैश्‍वि‍क महामारी कोविड-19 (नोवल कोरोना वायरस) से वि‍श्‍वभर में जंग जारी है। देश में 21 दि‍न का लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे कठि‍न वक्‍त में जहां एक ओर चि‍कि‍त्‍साकर्मी कोरोना संक्रमि‍त रोगि‍यों की तीमारदारी में जुटे हुए हैं, तो वहीं दूसरी ओर खाकी वर्दीधारी भी जनता की आशाओं के केंद्र में हैं। खाकी ना सि‍र्फ लॉकडाउन का अनुपालन कराने में जी जान से जुटी है, बल्‍कि‍ नि‍राश्रि‍तों, गरीब और मजदूर तबके की भूख मि‍टाने के लि‍ये भी दि‍नरात एक कि‍ये हुए है।

इन सबके बीच वाराणसी में बतौर एसपी सुरक्षा की ड्यूटी पर तैनात युवा आईपीएस सुकीर्ति‍ माधव मि‍श्र की एक कवि‍ता काफी चर्चा में है। मैं खाकी हूं शीर्षक ये कवि‍ता वि‍षम परि‍स्‍थि‍ति‍यों में पुलि‍सवालों के अदम्‍य साहस और उससे भी बढ़कर सेवाभाव को समर्पि‍त है।

Advertisements

आईपीएस सुकीर्ति‍ माधव मि‍श्र की कवि‍ता मैं खाकी हूं को हाल ही में महाराष्‍ट्र के नासि‍क शहर के पुलि‍स कमि‍श्‍नर वि‍श्‍वास नागरे पाटि‍ल ने अपने स्‍वर में गाकर काफी लोकप्रि‍य बना दि‍या है। आलम ये है कि‍ मैं खाकी हूं कवि‍ता सोशल मीडि‍या पर खूब वायरल हो रही है।

Advertisements

जम्‍मू कश्‍मीर के पुलि‍स अधि‍कारी इम्‍ति‍याज हुसैन ने ये कवि‍ता अपने ट्वि‍टर हैंडल पर शेयर की है, जि‍सके बाद मात्र कुछ ही घंटों में इसे 1600 से ज्‍यादा रीट्वीट, 6 हजार से ज्‍यादा लाइक और 55 हजार से भी ज्‍यादा व्‍यू मि‍ल चुका है।

इस संबंध में Live VNS ने वाराणसी के एसपी सुरक्षा सुकीर्ति‍ माधव मि‍श्र से बात की। उन्‍होंने बताया कि‍ इस कवि‍ता को उन्‍होंने मेंरठ में अपनी पहली पोस्‍टिंग के दौरान लि‍खी थी।

बता दें कि‍ ये कवि‍ता सोशल मीडि‍या पर काफी तेजी से वायरल हो रही है।

आईपीएस सुकीर्ति‍ माधव की कवि‍ता ”मैं खाकी हूं”

 आईपीएस वि‍श्‍वास नागरे पाटि‍ल द्वारा गायी गयी कवि‍ता