विज्ञापन

वाराणसी। बनारस में जाम की समस्या आम बात है। इससे निपटने के लिए ट्रैफिक डिपार्टमेंट ने सभी प्रमुख चौराहों और तिराहों पर ट्रैफिक सिग्नल लाईट की व्यवस्था की है। ऐसे में सिग्नल्स पर भी वाहनों की लंबी कतार लग जाती है और आपात सेवा एम्बुलेंस को भी लंबा इंतज़ार करना पड़ता है। कई बार इंतजार में ही मरीज की जान पर बन आती है। इन्ही सब मुश्‍कि‍लों को ध्यान में रखते हुए बनारस के छात्रों ने एक स्मार्ट एम्बुलेंस का प्रोटोटाइप मॉडल तैयार किया है, जो रेड सिग्नल को ग्रीन कर गंतव्य तक पहुंचेगी और मरीज़ को सही समय पर इलाज मिल जाएगा।

जाम और सिग्नल पर फसी एम्बुलेंस का सायरन सुनकर हम सभी का मन विचलित हो जाता है। अक्सर रेड सिग्नल पर भी सायरन की आवाज़ के बाद ट्रैफिक कर्मी रेड सिग्नल में ही एम्बुलेंस को जाने देते हैं लेकिन वाराणसी के अशोक इंस्टिट्यूट के तीन छात्रों ने स्मार्ट एम्बुलेंस तैयार की है।

इस संबंध में स्मार्ट एम्बुलेंस बनाने वाले तीन छात्रों तुषार तिवारी, आशीष मौर्य और सौरभ कुशवाहा में से एक तुषार ने बताया कि हमे अक्सर देखने को मिलता है की ट्रैफिक पे रेड सिग्नल होने पर एम्बुलेंस में कई मरीजों की जान चली जाती है ऐसे में हमारा स्मार्ट एम्बुलेंस डिवाइस रेड सिग्नल होने पर इमरजेंसी में ट्रैफिक के रेड सिग्नल को ऑटोमेटिक ग्रीन कर देता है,जिससे एम्बुलेंस समय रहते पेशेंट को लेकर हॉस्पिटल पहुंच कर मरीज की जान बचा सकती है l

सौरभ कुशवाहा ने बताया कि यह डिवाइस RF (रेडियों फ्रीक्वेंसी) ट्रांसमीटर रिसिवर के बेस पे काम करता है। ट्रांसमीटर को हम ट्रैफिक लाइट से कनेक्ट कर देते हैं और रिसिवर सर्किट को हम एम्बुलेंस में लगा देते हैं, निर्धारित रेंज में आते ही एम्बुलेंस में लगा रिसिवर ट्रेफिक सिग्नल में लगे ट्रांसमीटर को इमरजेंसी सिग्नल देता है, जिससे ट्रेफिक सिग्नल अगर रेड होतो सिग्नल ग्रीन हो जाता है और एम्बुलेंस को हॉस्पिटल पहुंचने में आसानी होगी।

छात्र आशीष मौर्या ने बताया कि का हमने प्रोटोटाईप मॉडल तैयार किया है। इसमें हमने 9वोल्ट ऑपरेटेड ट्रांसमीटर रिसिवर सर्किट RF Module 433 Mhz RF Transmitter and Receiver Module जिसकी रेंज तकरिबन 20 मीटर है जिसे कम या ज्यादा किया जा सकता है। ग्रीन रेड सिग्नल लाइट, मॉडल की हाईट 2 फ़िट, 5 वोल्ट रिले का इस्तेमाल किया है।

इस प्रोटोटाइप मॉडल के बारे में बोलते हुए अशोका के आर एन्ड डी हेड श्याम चौरसिया ने कहा कि छात्रों ऐसे विषय को चुना है जिससे आम जन का सहयोग होगा। अभी भी समाज में ऐसे लोग हैं जो एम्बुलेंस के हूटर के बाद भी अपनी बाइक या गाड़ी साइड नही करते ऐसे में इस मॉडल की बहुत आवश्यकता है।

विज्ञापन