एक बेटी का पिता तहसील दिवस पर लेकर पहुंचा ऐसी फ़रियाद, एसडीएम रह गयीं हैरान

विज्ञापन

वाराणसी। परिवार नियोजन को लेकर सरकारें नसबंदी कार्यक्रम चला रही है। इसी क्रम में वाराणसी जनपद में भी नसबंदी कार्यक्रम प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर होता रहता है। परिवार कल्याण के अंतर्गत इस नसबंदी कार्यक्रम अक्सर मरीज़ों को ज़मीन पर लेटाने का मामला तो सामने आता है पर मंगलवार को राजतालाब तहसील पर तहसील दिवस के मौके पर एक ऐसा मामला आया जिसे सुनकर एसडीएम अमृता सिंह भी हैरान हो गयीं।

तहसील दिवस पर एसडीएम अमृता सिंह के समक्ष उपस्थित हुए फरियादी जक्खिनी के पनियार ग्राम निवासी कृष्णा कुमार ने बताया कि उनकी पुत्री आरती (26) दो बच्चों की मां है। 5 फरवरी 2018 उसकी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आराजी लाईन में नसबंदी की गयी परिवार कल्याण का प्रमाणपत्र भी दिया गया। इसके बाद उनकी पुत्री ने फिर से बच्चे को जन्म दिया जबकि उनकी नसबंदी हो चुकी थी।

कृष्ण कुमार ने बताया कि पहले वह अपनी शिकायत लेकर जक्खिनी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक के पास गए और कार्रवाई की बात की तो उन्होंने सिर्फ बार बार आश्वासन दिया। उन्होंने बताया कि उनकी बेटी आरती देवी की शादी ग्राम जलालपुर, कछवा, जनपद मिर्जापुर में हुई है।

कृष्ण कुमार ने एसडीएम अमृता सिंह से मिलकर आपबीती सुनाई और सभी स्वास्थ्य कर्मियों के विरुद्ध कार्रवाई की गुहार लगायी है। एसडीएम अमृता सिंह ने जांच के बाद उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। वहीं इस संबंध में जब हमारे संवाददाता ने जक्खिनी के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी से बात की तो उन्होंने कहा कि यह मामला हमारे संज्ञान में अभी नहीं आया है। मामला संज्ञान में आने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

देखिये तस्वीरें 

Loading...