Varanasi Women's Day Special
विज्ञापन

वाराणसी। पूरा विश्व आज महिला दिवस मना रहा है। जगह-जगह महिलाओं के सम्मान का कार्यक्रम रखा गया है, पर पूर्वोत्तर रेलवे ने आज अपनी महिला कर्मचारियों पर विश्वास जताते हुए नयी इबारत लिख दी।

विज्ञापन

तीन ट्रेनों की कमान महिला रेलवे कर्मचारियों के ज़िम्मे
पूर्वोत्तर रेलवे की सीनियर सहायक लोको पायलट प्रिया राय को महिला दिवस के मौके पर गाड़ी संख्या- 55122 मंडुवाडीह-भटनी पैसेंजर और सिनियर सहायक लोको पायलट सुनीता कुमारी मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन से गाड़ी संख्या-55125 मंडुवाडीह-प्रयागराज रामबाग पैसेंजर को संचालित करने का मौक़ा दिया।

विज्ञापन

तालियों से हुआ स्वागत
इन दोनों सीनियर सहायक लोको पायलट ने महिला गार्ड की हरी झंडी दिखाते ही जैसे ही इंजन को रवानगी दी प्लेटफार्म पर मौजूद कर्मचारियों ने तालियों की गड़गड़ाहट से इनका स्वागत किया।

विज्ञापन

इस पैसेंजर ट्रेन में सारा स्टाफ महिला
इसके अलावा आज का सारा काम ट्रेन के डिपार्चर से सम्बंधित महिलाओं ने किया साथ ही पूर्वोत्तर रेलवे के छपरा जंक्शन से भटनी के बीच चलने वाली पैसेंजर गाड़ी संख्या-55115 की कमान अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर रविवार को महिला रेलकर्मी संभाल रही हैं।

विज्ञापन

अमृता पाल बनी प्वाइंट मैन
मंडुआडीह स्टेशन पर सुबह के सात बजे थे। गाड़ी संख्या- 55122 मंडुवाडीह-भटनी पैसेंजर गंतव्य पर जाने के लिए तैयार थी। आपरेटर विभाग की पाइंट मैन अमृता पाल इंजन के पास कागज़ लेकर खड़ी थी और सीनियर सहायक लोको पायलट प्रिया राय ड्राइवर के केबिन में कुछ महत्वपूर्ण कार्य कर रही थी।

यह भी पढ़ें : मि‍लि‍ए इस लेडी सिंघम से, जि‍नके कंधों पर है वाराणसी जंक्‍शन की सुरक्षा, जीत चुकी हैं 150 मेडल

प्रिया राय ने दी रवानगी
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आज इस ट्रेन को भटनी तक ले जाने की ज़िम्मेदारी प्रिया राय के ऊपर थी, जैसे ही घडी में 7 बजकर 5 मिनट हुए इंजन ने एक ज़ोरदार सिटी बजायी जिसके बाद गार्ड ने हरी झंडी दिखाई तो प्रिया ने भी हरी झंडी लहराते हुए ट्रेन को गंतव्य की तरफ रवानगी दे दी।

रेलवे से मिलता है सहयोग
इसके पहले प्रिया के इस अनुभव के बारे में हमने बातचीत की, प्रिया राय ने ने बताया कि रेलवे में महिलाओं के लिए डिफिकल्टी हैं पर रेलवे प्रशासन के सहयोग से इन दुविधाओं को हम दूर कर लेते हैं। आज जो कार्य हमें दिया गया है उससे काफी गर्व महसूस हो रहा है। उनसे जब पूछा गया कि रेलवे की टफ जॉब में से घर के लिए कैसे समय निकालती हैं तो प्रिया ने कहा कि घर परिवार सबके लिए समय निकालना होता है, पहले परेशानी थी पर अब सब ठीक है।

रेलवे की जॉब में खुद को महसूस करते हैं सेक्योर
इस ट्रेन की रवानगी में अहम भूमिका निभाने वाली मंडुआडीह स्टेशन के ऑपरेटर विभाग में पाइंट मैन पद पर काम कर रही अमृता पाल ने बताया कि रेलवे की जॉब तफ जैसे पुरुषों के लिए है वैसे ही महिलाओं के लिए भी है पर अधिकारियों के सहयोग से हम अपने काम का 100 प्रतिशत देते हैं। अमृता ने कहा कि रेलवे की जॉब में हम खुद को सेक्योर फील करते हैं।

ये ट्रेन आज महिलाओं के ज़िम्मे
इसी क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे के छपरा जंक्शन से भटनी के बीच चलने वाली पैसेंजर गाड़ी संख्या-55115 में सिनियर सहायक लोको पायलट के रूप में श्वेता यादव, गार्ड सोनाली कुमारी, चेकिंग स्टाफ के रूप में टीटीई ममता कुमारी, प्रतिमा कुमारी, निशा कुमारी तथा सुरक्षाकर्मी के रूप में आरपीएफ के सहायक उप निरीक्षक अर्चना उपाध्याय, हेड कांस्टेबल बिंदु, कांस्टेबल बिन्नू तथा सुमन एवं गरिमा कामना संभाल रही हैं।

देखें वीडि‍यो

देखें तस्वीरें 

Varanasi Women's Day Special

विज्ञापन