योगी सरकार ने दि‍खाई हरी झंडी, वाराणसी नगर नि‍गम में शामि‍ल होंगे ये 79 गांव, मि‍लेगी शहरी सुवि‍धाएं

विज्ञापन

वाराणसी/लखनऊ। वाराणसी नगर निगम की सीमा विस्तार को लेकर चल रही वर्षों पुरानी मांग पर आखि‍रकार प्रदेश की योगी आदि‍त्‍यनाथ सरकार ने अपनी मुहर लगा दी है। मंगलवार को राजधानी लखनऊ में हुई कैबिनेट बैठक में सरकार ने इसपर अपनी अंति‍म मुहर लगा दी है।

कैबिनटे की बैठक में नगर निगम में 79 गांव जोड़ने के प्रस्ताव को मान लिया गया है। साल 1959 के बाद यह पहली बार है जब वाराणसी नगर निगम की सीमा का विस्तार होने जा रहा है। इन गांवों में अब सड़क, सीवर, सफाई, डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन, स्ट्रीट लाइट और पार्क जैसी सुविधाएं नगर नि‍गम के तहत दी जाएँगी। साथ ही ही अब यहां प्रधानी की जगह यहां पार्षदी का चुनाव होगा।

योगी कैबिनेट की बैठक के बाद नगर निगम की सीमा से सटे 79 गांवों के रहवासियों को अपना मकान नंबर मिलेगा और नगर निगम से मिलने वाली हर सुविधा भी मिलेगी। नगर निगम सीमा विस्तार प्रस्ताव पर लगी कैबिनेट की मुहर के बाद अब नोटिफिकेशन की प्रक्रिया होगी।

जानकारों की माने तो साल 2015 के निकाय चुनावों के बाद मई 2016 में सरकार ने इन गांवों को शहर में लाने के लायी थी, पर उस समय नये चुनकर आये प्रधानों ने इसपर आपत्ति जताई थी और इस कार्यकाल तक इसे रहने देने की बता कही थी, जिसपर सरकार ने सितम्बर 2020 में होने वाले निकाय चुनाव के पहले यह फैसला किया है, जिससे किसी को किसी भी तरह की दिक्कत न हो।

नगर निगम को इस नए परिसीमन के बाद अब अपने प्रशासनिक स्टाफ और कर्मचारियों को बढ़ाना होगा। वाराणसी नगर निगम की सीमा में कुल 8621.691 हेक्टेयर क्षेत्रफल और बढ़ गया है।

नगर निगम के सूत्रों की माने तो जिन 79 गांवों को शहर में शामिल किया जाना है उनमे बुनियादी सुविधाएं पहुंचाने में 5 अरब रूपये का खर्च आएगा। नगर निगम में अभी तक 90 वार्ड थे जो बढ़ के 120 और नगर निगम के जोनल कार्यालय 7 हो जायेंगे।

वाराणसी में होने वाले इस परिसीमन से वाराणसी जनपद में अब सिर्फ 681 गांव ही रह जायेंगे। इसके अलावा 70 से 75 हज़ार नए टैक्स देने वाले बढ़ जायेंगे। जि‍ससे नि‍:संदेह नगर नि‍गम की आय में भी बढ़ोत्‍तरी होगी।

निगम में शामिल होंगे ये गांव
नगर निगम के नए परिसीमन के बाद 79 गांव नगर निगम में शामिल होंगे। इनमे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सांसद आदर्श ग्राम योजना के अंतर्गत गोद लिया गाँव डोमरी भी शामिल है। गंगा उस पार के दो गाँव डोमरी और सूजाबाद को इस परिसीमन में नगर निगम में शामिल किया गया है। इसके अलावा भगवानपुर, आंशिक डाफी, छित्तूपुर, सुसुवाही, चितईपुर, अवलेशपुर, करौंदी, सीरगोवर्धनपुर, नासिरपुर, नुआंव, कंदवा, पोंगलपुर, चुरामनपुर, मड़ौली, ककरमत्ता, जलालीपट्टी, पहाड़ी, गणेशपुर, कंचनपुर, भिखारीपुर कलां, भिखारीपुर खुर्द, चांदपुर आंशिक, महेशपुर, शिवदासपुर, तुलसीपुर, मंडुआडीह, लहरतारा, फुलवारियां, बड़ागांव अव्वल, नाथुपुर, तरना, गनेशपुर, हटिया, छतरीपुर, चुप्पेपुर, होलापुर, परमानंदपुर, लोढान, बांसदेवपुर, अहमदपुर, हरिहरपुर, सरसवां, कानूडीह, दांदूपुर, ऐढ़े, हरबल्लभपुर, बनवारीपुर, लमही, मढ़वा, रसूलपुर, सोयेपुर, रमदत्तपुर, गोईठहां, हृदयपुर, रजनहिया, हसनपुर, सिंहपुर, मुगदरपुर, खजुही, फरीदपुर, बकसड़ा, खरगपुर, मझमिठियां, सनदहा, हीरामनपुर, रुस्तमपुर, तिलमापुर, आशापुर, लेढ़ूपुर, रसूलगढ़, रघुनाथपुर, दीनापुर, सलारपुर, खालिसपुर, कोटवां, सराय मोहाना और हाशिमपुर शामिल हैं।

Loading...