Covid-19 का एकमात्र इलाज, सोशल डिस्टेंसिंग और लॉक डाउन, घर में रहकर बढ़ाएं अपना इम्‍यून पॉवर

Advertisements

डॉक्टर संध्या, सीनियर रेजिडेंट, चिकित्सा विज्ञान संस्थान, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय एवं पूर्व चिकित्सक, एमजीएम हिस्पिटल


Advertisements

सार्स सीओवी 2, जि‍से आम भाषा में नोवल कोरोना वायरस कहा जा रहा है और इससे होने वाले रोग कोवि‍ड-19′ के चलते देश में लॉकडाउन घोषि‍त है, जोकि‍ देशवासि‍यों के लिए चुनौतीपूर्ण अनुभव है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश एवं प्रदेश में उससे निपटने के लिए तमाम कदम उठाए जा रहे हैं। अबतक दुनि‍या के 201 देशों में कोरोना वायरस के मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इस आर्टि‍कि‍ल को लि‍खे जाने तक दुनियाभर में इस संक्रमण के 21 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं तथा लगभग 14 लाख से अधिक मौत हो चुकी है। यह आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं।

Advertisements

कोरोना वायरस के लक्षणों में सूखी खांसी, छींक, शरीर दर्द, कमजोरी तथा तेज बुखार होता है। संक्रमण लक्षण दिखाई देने के 2 से 14 दिनों के बीच संक्रमित मरीजों को सांस लेने की गंभीर बीमारी का अनुभव होता है। कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग यानी जिनकी रोगों से लड़ने की ताकत कम है, आसानी से इसके शिकार हो जाते हैं। गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गो तथा जो अस्थमा, मधुमेह, दिल की बीमारी से ग्रसित लोगों के लिए भी यह घातक है। ऐसे समय चिकित्सीय परामर्श अवश्य लेना चाहिए।

कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। सामाजिक दूरी अर्थात इसके लक्षण वाले लोगों से दूर रहकर ही इस संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। खांसते या छींकते समय अपने मुंह और नाक को अवश्य ढक लें तथा आपके द्वारा स्पर्श की जाने वाली वस्तुओं और सतह को कीटणुरहित कर दें। घर से बाहर निकलते समय मास्क का प्रयोग अवश्य करें।साथ ही साथ इस दौरान खान पान की आदतों को सुधारते हुए रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर भी संक्रमण से बचा जा सकता है।

आहार में भरपूर रूप से विटामिन सी, वि‍टामि‍न बी २, बी 6, डी तथा एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा को शामिल करें। मौसंबी, संतरा, नीबू आदि में भरपूर विटामिन सी पाया जाता है। हरि सब्जियों को विशेष रूप से अपने खाने में शामिल करे। ध्‍यान रहे कि‍ कच्‍ची सब्‍जि‍यों का प्रयोग इस समय न करें तो बेहतर होगा। भोजन खूब पका होना चाहिए। भोजन को थोड़ीथोड़ी मात्रा में 4 से 5 बार करें। इस समय गरिष्‍ठ भोजन से परहेज़ करें।

एक मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता आपको वायरस के संक्रमण से बचा सकता है। अदरक, लहसुन, मुलेठी, दालचीनी, हल्दी, पालक, दही, बादाम, सूरजमुखी के बीज आदि रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं। तुलसी, गिलोय, ग्रीन ट्री का प्रयोग रोज करें। जहा तक संभव हो गरम पानी का प्रयोग करें।

वि‍शेष ध्‍यान देने वाली बात ये है कि‍ फि‍लहाल इस रोग का कोई उपचार नहीं है। वैज्ञानिक एवं डाक्टर इसके लिए टीका एवं दवाओं पर निरन्तर शोध कर रहे हैं। सोशल डि‍स्‍टेंसिंग, रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर तथा आहार विहार को नियंत्रण में रख के ही हम इससे खुद का और अपने परि‍जनों का बचाव कर सकते हैं। कह सकते हैं कि‍ जबतक इस वायरस की दवा या वैक्‍सि‍न नहीं मि‍ल जाती तो सोशल डिस्टेंसइंग और लॉकडाउन ही एकमात्र रामबाण इलाज है।