95 बटालियान सीआरपीएफ ने मत्स संरक्षण दिवस पर अस्सी घाट के गंगा तट पर छोड़ीं 20 हजार मछलियां

वाराणसी। 95 बटालियन केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, पहाड़िया मंडी का वैश्विक महामारी कोविड-19 के विरुद्ध जारी अभियान शनिवार को भी पूरी गंभीरता और जवाबदारी के साथ जारी रहा। बटालियन के कमांडेंट नरेंद्र पाल सिंह (पीएमजी) के निर्देशन में वाहिनी द्वारा चलाए जा रहे सैनिटाइजेशन एवं राहत अभियान अनवरत रूप से चालू है साथ ही वह अद्यतन स्थिति पर भी नजर रखे हुए हैं।

वाहिनी के द्वितीय कमान अधिकारी सुरेश मिश्रा के नेतृत्व में सीआरपीएफ, मत्स्य विभाग वाराणसी एवं सृजन सामाजिक विकास न्यास के सहयोग से मत्स्य संरक्षण दिवस के अवसर पर शनिवार को अस्सी घाट के तट पर गंगा नदी में 20,000 मछलियों को नदी में छोड़ा गया।

इस अवसर पर  सुरेश मिश्रा द्वितीय कमान अधिकार 95 बटालियन सीआरपीएफ  ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि तटीय क्षेत्र और अंत: स्थलीय जल जहाँ से ज्यादा मछलियों को पकड़ा जा रहा है, उन क्षेत्रों में मछलियों को जीर्णोद्धार होना चाहिए। ऐसी जगहों में छोटी मछलियों को बीज के तौर पर छोडना चाहिए।

उन्होंने कहा कि जलाशयों में कृत्रिम प्रजनन पर जोर देना चाहिए। प्रदूषित जल में मछली जीवित नहीं रह पाती, इसलिए जल को प्रदूषण से बचाना चाहिए । इस कार्यक्रम में मत्स्य विभाग के एमएस रिजवी ( विशेष सचिव ) एसएस रहमानी,डिप्टी डायरेक्टर श्री विश्वनाथ सिंह, उप निदेशक, डॉक्टर हरेंद्र उप निदेशक, डॉक्टर संजय शुक्ला, श्रीमती सपना पूरी, राजेंद्र कुमार सोनकर, रविंद्र प्रसाद मुख्य अधिकारी, अनिल सिंह (अध्यक्ष सामाजिक विकास न्यास परिषद), सीआरपीएफ के जवान आदि उपस्थित रहें।

Advertisements

Leave a Comment